चीन के राष्ट्रपति शी जिनपिंग ने सैनिकों से युद्ध की बात दिमाग में रखकर खुद को हर समय तैयार रहनेे के लिए कहा है। साथ ही चीनी राष्ट्रपति ने मरीन कॉप्र्स मुख्यालय में सैनिकों से खुद को इलीट फोर्स के रूप में विकसित करने को कहा। इलीट फोर्स वह सुरक्षा बल होता है जो हर स्थिति में त्वरित जवाबी कार्रवाई करने में सक्षम होता है। 

भारत के साथ सीमा पर तनाव के दौरान जिनपिंग सैनिकों के बीच पहुंचे और उनसे बातचीत कर रहे थे।जानकारी के अनुसार राष्ट्रपति शी जिनपिंग ने पीपुल्स लिबरेशन आर्मी (पीएलए) की नेवी मरीन कॉप्र्स के चाओझोऊ स्थित मुख्यालय का दौरा किया। मरीन कॉप्र्स के 2017 में गठन के बाद यह पहला मौका था जब जिनपिंग उसके मुख्यालय गए हैं। 

मरीन कॉप्र्स के कमांडरों के साथ बातचीत में जिनपिंग ने जवानों को कार्रवाई के लिए हमेशा तैयार रहने की स्थितियों में रखने को कहा। इसके लिए खास प्रशिक्षण, लक्ष्य निर्धारित करने और लड़ाई के खास तरीके विकसित करने पर जोर दिया। उन्होंने कहा कि मरीन कॉप्र्स को इस तरह से तैयार किया जाए कि वह चीन की संप्रभुता और क्षेत्रीय अखंडता की रक्षा के लिए सबसे अहम जिम्मेदारी संभालने के साथ ही समुद्री अधिकारों की रक्षा कर सके और वैश्विक जिम्मेदारियां संभाल सके। जानकारी के अनुसार चीन में सेना ने मरीन कॉप्र्स को नौसेना को सहयोग देने के लिए तैयार किया है। इनकी तैनाती चीन के विदेशी सैन्य ठिकानों पर की जाएगी। चीन में जिनपिंग राष्ट्रपति और सत्तारूढ़ कम्युनिस्ट पार्टी के महासचिव होने के साथ ही सेंट्रल मिलिट्री कमीशन के चेयरमैन भी हैं, जो सैन्य बलों का सुप्रीम कमांडर होता है।