इस्लामिक देशों के संगठन इस्लामिक सहयोग संगठन का 48वां सत्र इस्लामाबाद में शुरू हो गया है। 2 दिन तक चलने वाले इस संगठन की बैठक में 57 देशों के प्रतिनिधि भाग ले रहे हैं। इस बार ओआईसी का आयोजक पाकिस्तान है। पाकिस्तान ने अपने सदाबहार दोस्त चीन को भी इस बैठक में आमंत्रित किया है। ये पहली बार हो रहा है कि चीन का कोई विदेश मंत्री इस्लामिक देशों की बैठक में शामिल हो रहा है। चीन ने भी इस बैठक में शामिल होने को लेकर कहा है कि वो इस बैठक में मुस्लिम दुनिया के साथ अपने संबंधों को बढ़ाने के लिए शामिल हो रहा है।

यह भी पढ़ें : सरकार को अरूणाचल में बड़ी कामयाबी, एक ही झटके में सरेंडर करवाई 2000 से अधिक एयर गन

इस्लामिक देशों की मीटिंग में कश्मीर के मुद्दे पर भी चर्चा की जाएगी। खबर है कि इस मीटिंग में बतौर मेहमान हिस्सा लेने आए चीन के विदेश मंत्री वांग यी ने पाकिस्तानी विदेश मंत्री शाह महमूद कुरैशी से मुलाकात की है। इस मुलाकात के दौरान कुरैशी ने भारत के जम्मू-कश्मीर में कथित मानवाधिकार उल्लंघनों के संबंध में चीनी विदेश मंत्री को बताया। मोदी सरकार ने जब जम्मू-कश्मीर से अनुच्छेद 370 खत्म किया था तो पाकिस्तान के साथ-साथ चीन ने भी कड़ी आपत्ति जताई थी।

यह भी पढ़ें : युवक की कॉस्टेबल ने की इतनी खतरनाक पिटाई, हिल गया अंतर्राष्ट्रीय मानवाधिकार संगठन

इतना नहीं बल्कि पाकिस्तान ने भारत की तरफ से 9 मार्च को तकनीकी खराबी के चलते पाकिस्तान के इलाके में फायर हुई एक मिसाइल को लेकर चीन को जानकारी दी है। कुरैशी ने वांग यी से कहा कि पाकिस्तान इस घटना पर संयुक्त जांच की मांग कर रहा है और वो इस बात से भी आश्वस्त होना चाहता है कि भविष्य में इस तरह की घटना ना हो।

दूसरी तरफ चीन के विदेश मंत्री ने कहा है कि सभी धर्मों के लिए एकता और सहयोग को बढ़ावा देने और मुस्लिम दुनिया के साथ साझेदारी बढ़ाने के लिए चीन ओआईसी के विदेश मंत्रियों की 48वीं बैठक में भाग ले रहा है।

ओआईसी के 57 देश सदस्य हैं जिसकी थीम 'Building Partnerships for Unity, Justice, and Development है।’ इस बैठक में 46 सदस्य देशों के विदेश मंत्री भाग ले रहे हैं। बाकी देश अपने वरिष्ठ अधिकारियों को इस बैठक में हिस्सा लेने के लिए भेज रहे हैं। पाकिस्तान के प्रधानमंत्री इमरान खान ने एक ट्वीट कर सत्र में भाग लेने के लिए पाकिस्तान पहुंचे विभिन्न देशों के मंत्रियों और प्रतिनिधियों का स्वागत किया है।

खान ने अपने एक ट्वीट में लिखा, 'मैं इस्लामाबाद में ओआईसी के 48वें सत्र में हिस्सा लेने आए सदस्य देशों के विदेश मंत्रियों और प्रतिनिधिमंडलों का गर्मजोशी से स्वागत करता हूं। 'एकता, न्याय और विकास' के व्यापक विषय के तहत ओआईसी में व्यापक विचार-विमर्श होगा। आपकी उपस्थिति से पाकिस्तान के लोग सम्मानित महसूस कर रहे हैं।'

इस सत्र में संयुक्त राष्ट्र और दूसरी अतंरराष्ट्रीय संस्थाओं के वरिष्ठ प्रतिनिधि, अरब लीग, गल्फ कॉपरेशन काउंसिल के प्रतिनिधि भी शामिल हो रहे हैं। मीटिंग के एजेंडे में इस्लामोफोबिया, अंतरराष्ट्रीय आतंकवाद, आर्थिक, सांस्कृतिक, सामाजिक, वैज्ञानिक क्षेत्र में परस्पर सहयोग पर बात करना शामिल है।