रूस की तरह चीन ने भी अपने पड़ौसी देश ताइवान को आंख दिखाने की कोशिश की है। चीन की पीपुल्स लिबरेशन आर्मी एयर फोर्स के दो रूसी निर्मित सुखोई फाइटर जेट ताइवान के एयर स्पेस में घुस गए थे। चीन फाइटर जेट के एयर स्पेस में घुसने के बाद ताइवान की सेना भी अलर्ट हो गई और ड्रैगन को जवाब देने के लिए अपने दो लड़ाकू विमान भेज दिए। इसके साथ-साथ ताइवान की सेना ने रेडियो अलर्ट भी जारी कर दिया।

यह भी पढ़ें : मिजोरम में कोरोना के 83 नए मामले सामने आए, पिछले 24 घंटों में नहीं हुई किसी की मौत

हालांकि, ताइवान के लड़ाकू विमान को देख चीन के फाइटर जेट वापस लौट गए। चीनी फाइटर जेट को ट्रैक करने के लिए ताइवान ने अपने वायु रक्षा मिसाइल प्रणालियों की भी तैनाती कर दी है। चीन के विमान की ताइवान में घुसपैठ वहां के शनिवार को स्थानीय समय के अनुसार सुबह 8:53 बजे और दोपहर में 1:23 बजे हुए थी। 

इन दोनों ही चीनी विमानों को ताइवान एयर स्पेस के दक्षिण पश्चिम क्षेत्र में डोंगशा द्वीप के उत्तर पूर्व में 9,800 मीटर की ऊंचाई पर ट्रैक किया गया था। ऐसा पहली बार नहीं है जब चीनी फाइटर जेट ताइवान के एयर स्पेस में घुसे हो। इससे पहले भी चीन कई बार यह हिमाकत कर चुका है।

यह भी पढ़ें : इंडियन आर्मी मणिपुर में स्थापित करेगी 'रेड शील्ड सेंटर', जानिए क्या होगा फायदा

गौरतलब है कि चीन लगातार ताइवान पर आक्रमण की धमकी देता रहता है। ऐसे में कुछ लोगों का मानना है कि आक्रमण की आशंका बढ़ गई है। दूसरी ओर एक और तर्क दिया जा रहा है कि यूक्रेन को लेकर चीनी सैन्य विफलताओं को देखते हुए चीन सावधानी बरत सकता है। पिछले कुछ सालों से दुनिया के कई देशों को ताइवान से सपोर्ट मिल रहा है। इसके साथ ही ताइवान के लोगों के बीच भी जागरूकता पहले के मुकाबले बढ़ी है। यह चीन के लिए चिंता का कारण है।