रूस-यूक्रेन युद्ध के बीच चीन ने नया दांव खेला है जिसके तहत उसने LAC का हॉट स्प्रिंग एरिया खाली कर दिया है। यह दावा चीन ने खुद किया है और कहा है कि पीएलए ने एलएसी पर हॉट स्प्रिंग एरिया को खाली कर दिया है। हालांकि इस मामले के जानकार लोगों के मुताबिक चीन झूठ बोल रहा है और पूर्वी लद्दाख के सभी इलाके अभी खाली नहीं किए गए हैं। चीन के विदेश मंत्री ने कहा है कि भारत के साथ मिलकर काम किया जा रहा है और पूर्वी लद्दाख को लेकर जल्द समाधान निकाल लिया जाएगा।

यह भी पढ़ें : एल्विस अली हजारिका ने किया असम का नाम पूरी दुनिया में रोशन, बना दिया ऐसा रिकॉर्ड

चीन ने कहा है कि गलवान घाटी, पैंगोंग लेक और हॉट स्प्रिंग में डिसइंगेजमेंट हो गया है। गौरतलब है कि 2 साल से भारत और चीन ने कई बार वार्ता की है लेकिन अब तक कोई हल नहीं निकल पाया है। भारत को केवल पैंगोंग के दक्षिणी किनारे और गोगरा इलाके में डिसइंगेजमेंट की जानकारी है। 

इससे पहले भारत और चीन के बीच 11 मार्च को 15वें चरम की कमांडर स्तर की वार्ता हुई थी। इस वार्ता के बाद जारी बयान में कहा गया था, 'दोनों देश इस समाधान पर पहुंचे हैं कि गलवान घाटी, पैंगोंग लेक और हॉट स्प्रिंग को खाली किया जाएगा। ग्राउंड पर स्थिति शांत और नियंत्रण में हैं।' यह बयान चीन की तरफ से जारी किया गया था। विदेश मंत्रालय की तरफ से कहा गया था कि दोनों देश स्वीकार्य समाधान पर पहुंचे हैं और आगे बातचीत जारी रखी जाएगी।

यह भी पढ़ें : UP चुनाव जीतने के बाद योगी को असम से आई गजब बधाई, देखें तस्वीरें

हालांकि, चीन के बयान में इस बात का जिक्र नहीं किया गया है कि किस इलाके में अभी डिसइंगेजमेंट नहीं हुआ है और इतना समय क्यों लग रहा है। आखिरी बार 4 और 5 अगस्त को डिसइंगेजमेंट गोगरा पट्रोलिंग पॉइंट 17A पर हुआ था। 12वें चरण की बातचीत के बाद ये इलाका खाली किया गया था। गोगरा में दोनों तरफ की सेनाएं पीछे हट गई थीं।