भारतीय खिलाड़ी ने बड़ा राज खोलते हुए बताया है कि क्रिकेट में भी चाइनामैन बोलिंग होती है जिसको बेहद खतरनाक माना जाता है। यह राज भारतीय क्रिकेट टीम के खतरनाक बोलर कुलदीप यादव ने खोला है।
आपको बता दें कि चाइनामैन बोलिंग बाएं हाथ के स्पिनर करते हैं, जो अपनी कलाइयों की मदद से गेंद को लेग स्पिन कराते हैं। बाएं हाथ से लेग स्पिन फेंकने के कारण यह गेंद दाएं हाथ के बल्लेबाजों से दूर जाने की बजाए उनकी ओर आती है, जबकि दाएं हाथ का गेंदबाज लेग स्पिन करे तो यह गेंद बल्लेबाज से दूर जाती है।
चाइनामैन का अर्थ है- चीन का व्यक्ति। जी हां! भले ही इंटरनैशनल क्रिकेट में चीन कभी प्रभावी स्तर पर दिखाई नहीं दिया हो। लेकिन क्रिकेट को पहला चाइनामैन गेंदबाज इसी देश से मिला था। इनका नाम था एलिस अचोंग।
साल 1933 में तब इंग्लैंड की टीम टेस्ट सीरीज के लिए वेस्ट इंडीज की मेजबानी कर रही थी। यहां ओल्ड ट्रैफर्ड मैदान पर वेस्ट इंडीज ने चीनी मूल के लेफ्टआर्म गेंदबाज एलिस अचोंग को अपनी प्लेइंग XI में मौका दिया था। यहां इस स्पिनर ने जब अपनी स्पिन बोलिंग का जलवा दिखाया तो उनके इस ऐक्शन को नाम मिला चाइनामैन बोलर।
इस मैच में अचोंग का सामना जब इंग्लैंड के बल्लेबाज वॉल्टर रॉबिन्स कर रहे थे तो उनकी गेंद पर वह आउट हो गए। रॉबिन्स उनकी उल्टी स्पिन पर हैरान होकर गुस्से में पविलियन लौट रहे थे। इस दौरान उन्होंने कहा, 'फैंसी बींग डन बाई ब्लडी चाइनामैन (चीन का आदमी अजीब बोलिंग कर रहा है।)' तभी से लेफ्ट आर्म रिस्ट स्पिनर को नाम मिला चाइनामैन बोलर।
लेफ्टआर्म से रिस्टस्पिन बोलिंग कराने वाले स्पिनर बहुत ही सीमित होते हैं। करीब 150 साल के इंटरनैशनल क्रिकेट इतिहास में करीब 30 गेंदबाज ही ऐसे हुए हैं, जिन्हें चाइनामैन बोलर कहा जाता है। इनमें से करीब आधे गेंदबाज ही क्रिकेट जगत में अपनी खास पहचान बना पाए हैं।

चीनी मूल के कैरिबियाई खिलाड़ी एलिस अचोंग ने भले इस बोलिंग को पहचान दी हो। लेकिन इस बोलिंग में उन्होंने इतना कमाल नहीं किया, जितना कमाल साउथ अफ्रीका और ऑस्ट्रेलिया के इन दो क्रिकेटर्स ने किया। ऑस्ट्रेलिया के ब्रैड हॉग और साउथ अफ्रीका के पॉल एडम्स ने चाइनामैन बोलिंग को खास मुकाम दिलाया।

हॉग दिग्गज गेंदबाज शेन वॉर्न के जमाने में खेल रहे थे। इसलिए उन्हें टीम में इतने मौके नहीं मिलते थे। इसके बावजूद उन्होंने 123 वनडे में 156 विकेट, 7 टेस्ट में 17 विकेट और 15 टी20I में 7 विकेट अपने नाम किए। साउथ अफ्रीका के पॉल एडम्स की बात करें तो उन्होंने 45 टेस्ट में 134 शिकार किए। इसके अलावा 24 वनडे में 29 विकेट भी उनके नाम हैं।
25 वर्षीय कुलदीप यादव अब तक 6 टेस्ट, 60 वनडे और 21 टी20I मैच खेल चुके हैं। इंटरनैशनल क्रिकट में कुलदीप का परफॉर्मेंस लाजवाब है। वह अभी तक टेस्ट में 24, वनडे में 104 और टी20I में 39 शिकार अपने नाम कर चुके हैं।
कुलदीप यादव भारत के पहले चाइनामैन गेंदबाज नहीं हैं। कुलदीप से पहले साल 2006 में भारतीय महिला क्रिकेट टीम को पहली चाइनामैन गेंदबाज प्रीती डिमरी के रूप में मिली थीं। डिमरी ने 2 टेस्ट और 23 वनडे में कुल (5+28) 33 विकेट अपने नाम किए थे। अभी भारतीय क्रिकेट में कुलदीप के अलावा शिविल कौशिक है, जो 2016-17 में आईपीएल में खेलते दिखाई दिए थे।