ताइवान के मामले में संयम बरतने की चीन की भारतीय मीडिया को चेतावनी भरी नसीहत ड्रैगन को ही भारी पड़ गई है। ताइवान ने पलटवार करते हुए चीन को करारा जवाब दिया है। जानकारी के मुताबकि ताइवान के नेशनल डे कवरेज को लेकर चीन की ओर से भारतीय मीडिया को नसीहत दी गई थी। 

इस पर ताइवान के विदेश मंत्रालय ने भारत के लोकतंत्र और फ्री प्रेस का जिक्र करते हुए कहा कि कम्युनिस्ट चाइना को ताइवान के भारतीय दोस्त एक ही जवाब देंगे-दफा हो जाओ। जानकारी के अनुसार ताइवान ने नेशनल डे को लेकर भारतीय अखबारों में विज्ञापन दिए गए थे। इससे बौखलाए चीनी दूतावास ने भारतीय मीडिया को चेताया था कि दुनिया में केवल एक चीन है और वन चाइना पॉलिसी का सम्मान किया जाए। साथ ही कहा कि ताइवान चीन का हिस्सा है, इसलिए ताइवान को अलग देश ना बताएं और ताइवान के नेता को राष्ट्रपति ना कहें।

जानकारी के मुताबकि ताइवान के विदेश मंत्री जोसेफ वू ने विदेश मंत्रालय के ट्विटर पेज पर लिखा, भारत पृथ्वी पर सबसे बड़ा लोकतंत्र है, जहां जीवंत प्रेस और आजादी पसंद लोग हैं, लेकिन लगता है कि कम्युनिस्ट चीन इस पर सेंसर लगाना चाहता है। ताइवान के भारतीय दोस्तों का केवल एक जवाब होगा-दफा हो जाओ। इसके बाद उन्हें अपना इनिशियल लिखा है ताकि यह स्पष्ट हो कि विदेश मंत्रालय की ओर से उनका बयान जारी किया गया है। बताया जा रहा है कि भारतीय मीडिया ने भी चीन की इस हरकत की कड़ी निंदा की है। सोशल मीडिया पर कई पत्रकारों ने चीन की इस कोशिश की आलोचना की है और कहा है कि ड्रैगन अपने दखल को मुखपत्र ग्लोबल टाइम्स तक सीमित रखे।