बीजिंग। डोकलाम विवाद को लेकर चीन के सरकारी मीडिया ने एक बार फिर भारत पर निशाना साधा है। चीनी मीडिया का कहना है कि भारत बहुत छोटी सोच वाला देश है। वह मानता है कि सीमा पर एक सड़क दोनों देशों के बीच रणनीतिक हालात को तय कर सकती है। भारत कोल्ड वॉर खत्म करे और इलाके का दादा बनने की मानसिकता छोड़ें। बता दें कि चीन डोकलाम में सड़क बनाना चाहता है। भारत और भूटान इसका विरोध कर रहे हैं। करीब 2 महीने से दोनों देशों के बीच डोकलाम को लेकर विवाद चल रहा है। इलाके में 16 जून से भारत और चीन के सैनिक आमने सामने हैं। 

चीन के सरकारी समाचार पत्र ग्लोबल टाइम्स ने अपने संपादकीय में लिखा है कि भारत को कोल्ड वॉर और इलाके का दादा बनने की मानसिकता छोड़ देनी चाहिए। तभी वह चीन को खतरे के रूप में देखने की बजाय एक तेजी से विकसित होते देश में मौजूद बहुत ज्यादा अवसरों के तौर पर देख सकेगा। छोटी सोच बदलने के बाद भारत को कोई संकट महसूस नहीं होगा क्योंकि चीन सिर्फ पूरे बॉडर्र पर एक सड़क ही बना रहा है ताकि चीनी क्षेत्र में सैनिकों की आवाजाही हो सके। भारत को खुली सोच अपनानी चाहिए और दुनिया को खतरों के तौर पर देखने, चुनौती के तौर पर लेना छोड़ देना चाहिए। भारत को छोटे दक्षिण एशियाई देशों और बाकी दुनिया को लेकर अपने व्यवहार पर विचार करना चाहिए। 

भारत और चीन के सैन्य अधिकारियों के बीच बुधवार को लेह के चुशूल सेक्टर में फ्लैग मीटिंग हुई,जिसमें खासतौर पर पैंगॉन्ग झील के किनारे मंगलवार को दोनों देशों के सैनिकों के बीच हुई कथित झड़प से उपजे तनाव को दूर करने के उपायों पर वार्ता हुई। सूत्रों के मुताबिक बैठक में वास्तविक नियंत्रण रेखा पर शांति और यथास्थिति बनाए रखने की मौजूदा व्यवस्था को मजबूत बनाने पर चर्चा हुई। बता दें कि मंगलवार को भारतीय सैनिकों ने अपनी सीमा में आ रहे चीनी सैनिकों को रोका था। इस दौरान दोनों तरफ से पथराव दिया। इसमें दोनों देशों के सैनिकों को चोटें आई थी।