दुनिया अफगानिस्तान के हालातों पर बहुत ही ज्यादा दुखी है। आतंकी राज से परेशान अफगानी अपनी जमीं छोड़ दूसरे देश में शरण मांगने को मजबूर हो गए हैं। तालिबान अफगान पर राज करना शुरू कर दिया है। वहां कानून रहन सहन सब नियमों का तख्तापलट कर दिया है। अफगानिस्तान  बहुत ही गरीब देश माना जाता है लेकिन हकिकत तो यह है कि अफगानिस्तान बहुत ही ज्यादा अमीर है। जिस पर चन पैनी नजर गढ़ाए हुए हैं।

बता दें कि दक्षिण एशिया का यह देश लाखों करोड़ रुपये की बेशकीमती खनिज संपदा का मालिक है। इसका उपयोग कर अफगानिस्तान अपनी बदहाली या गरीबी दूर कर सकता है। गरीबी रेखा के नीचे जी रहे अपने अधिकांश नागरिकों के जीवन को बेहतर बना सकता है। दुख की बात यह है कि तालिबानी शासन में ऐसा हो पाना आसान नहीं हैं
अफगानिस्तान की अकूत दौलत
•     2010 में अमेरिकी सैन्य अधिकारियों और भूगर्भ विज्ञानियों ने अफगानिस्तान की धरती के नीचे छिपे रहस्य का पता लगाया जो अफगानिस्तान की किस्मत बदल सकता है।

•     अफगानिस्तान की धरती के नीचे एक ट्रिलियन अमेरिकी डालर यानी 75 लाख करोड़ रुपये से भी अधिक के खनिज तत्व मौजूद हैं।

•     इनमें कुछ भूखनिज (अर्थ मिनरल) ऐसे हैं जिनकी इस वक्त दुनिया को बहुत जरूरत है और उनकी सप्लाई काफी कम है।
•    पूरे अफगानिस्तान में धरती के नीचे आयरन, कापर और सोना जैसे खनिज मौजूद हैं।

•     लीथियम बड़ी मात्रा में मौजूद है। लीथियम यानी वह खनिज जिसे रिचार्ज होने वाली बैटरी के लिए बेहद अहम माना जाता है। मोबाइल हो या ई-व्हीकल, लीथियम वाली बैटरी का ही इस्तेमाल सबसे अधिक होता है।