चीन के राष्ट्रपति शी जिनपिंग के स्वास्थ्य को लेकर अटकलें तेज हो गई हैं। कुछ रिपोर्ट्स के मुताबिक शी जिनपिंग बीमार पड़ गए हैं। इतना ही नहीं बल्कि शेन्जेन में कम्युनिस्ट पार्टी के भाषण के दौरान उन्हें बार-बार तेज खांसी आ रही थी और उन्हें बार-बार बोलने से रुकना पड़ रहा था।

शी जिनपिंग को इतनी खांसी आ रही थी कि मीडिया के सभी कैमरे राष्ट्रपति से दूर हो गए, हालांकि कैमरे पर शी जिनपिंग के खांसने का ऑडियो लगातार रिकॉर्ड होता रहा। इस पूरे घटनाक्रम के बाद यह खबर तेजी से फैल रही है कि कहीं शी जिनपिंग कोरोना वायरस की गिरफ्त में तो नहीं आ गए हैं।

हांगकांग के एक अखबार ने लिखा है कि शेन्जेन में हुई घटना की खांसी) से चीफ एग्जीक्यूटिव कैरी लैम इतनी दहशत में आ गईं कि उन्होंने शी जिनपिंग से दूरी बना ली। क्योंकि जिनपिंग बार-बार खांस रहे थे और पानी पी रहे थे।

वुहान से शुरू हुए कोरोना वायरस ने दुनियाभर के तमाम नेताओं को अपनी चपेट में ले लिया है। अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रम्प, बोरिस जॉनसन, जेयर बोल्सोनारो, बोलीविया, ग्वाटेमाला, होंडुरास के राष्ट्रपति और आर्मेनिया के प्रधानमंत्री वायरस से संक्रमित हो चुके हैं। अब अनुमान लगाया जा रहा है कि शी जिनपिंग का नाम भी इस सूची में शामिल हो सकता है।

लेकिन ऐसा होने के चांस बेहद कम हैं क्योंकि चीन पारदर्शिता के लिए नहीं जाना जाता। जब वायरस पहली बार फैला था तब भी शी जिनपिंग रहस्यमय तरीके से गायब हो गए थे. वह एक बार नहीं, बल्कि दो बार सार्वजनिक जीवन से गायब हो चुके हैं। इसके बाद वह बिना मास्क के दिखाई दिए, यह साबित करने के लिए कि चीन ने वायरस को हरा दिया है. उन्होंने लॉकडाउन खत्म कर दिया और पूल पार्टियों की अनुमति दे दी लेकिन अब उनका यह ‘स्टंट’ बैकफायर कर सकता है।