गांव का नाम आते ही जेहन में कच्चे मकान, झोपड़ी, कच्ची सड़कों की तस्वीरें आती हैं। लेकिन अब हालात काफी बदल रहे। इसके बावजूद भी अधिकांश गांवों की दशा अभी भी बहुत अच्छी नहीं है। ऐसे में जब कोई कहे कि एक ऐसा भी गांव है, जहां लोगों की इनकम लाखों में है और सभी आलीशान मकानों में रहते हैं। इसके साथ ही यहां हर शख्स करोड़पति है तो यकीन करना थोड़ा मुश्किल होता है। इतना ही नहीं इस गांव ने कई बड़ी मेट्रो सिटीज को भी पीछे छोड़ दिया है। 

यह भी पढ़ें : असम कैबिनेट विस्तार के बाद भाजपा सदस्यों की संख्या 11 से बढ़ कर हुई 13

यह अमीर गांव चीन के Jiangsu Province में स्थित है जिसका नाम Huaxi है। कुछ समय पहले तक इस गांव को चीन का Richest Village कहा जाता था। इसके पीछे की वजह Huaxi गांव में मौजूद सुख-सुविधाओं की भरमार है। इस गांव के सामने बड़े से बड़ा शहर भी फीका लगने लगता है। वहीं बात अगर यहां के लोगों की सैलरी/इनकम की करें, तो वो किसी को भी चौंका सकती है। इस गांव के 2,000 निवासियों में से प्रत्येक के पास बैंक में एक मिलियन युआन (1 करोड़ 10 लाख रुपये) से अधिक है। यहां हर कोई एक विला में रहता है और लक्जरी कार का मालिक है।

Huaxi गांव को कभी 'समाजवादी अर्थव्यवस्था' के आदर्श उदाहरण के रूप में दर्शाया गया था। समृद्धि और विलासिता की वजह से इस गांव को 'चीन का सबसे अमीर गांव' के रूप में जाना जाता था, भले ही इसका 'विकास मॉडल' हमेशा से विवादों में रहा हो। इस गांव में रहने वाले लगभग हर शख्स की सालाना इनकम 15 लाख रुपये के करीब थी, जो चीन में एक किसान की औसत आय का लगभग 40 गुना है। अपनी आर्थिक ताकत दिखाने के लिए इस गांव ने 2011 में अपनी गगनचुंबी इमारत बनाने में तीन अरब युआन (33 अरब से अधिक) खर्च किए थे। यहां बनी 72 मंजिला एक बिल्डिंग को Huaxi का हैंगिंग विलेज कहा जाता है। इस गांव में दर्जनों गगनचुंबी इमारतें हैं। 

वैसे तो Huaxi एक कृषि प्रधान गांव है। लेकिन यहां के किसानों ने एक ऐसा आइडिया अपनाया, जिसके कारण इस गांव को 'दुनिया के सबसे अमीर गांवों' में भी गिना जाने लगा। चीनी मीडिया के अनुसार, जब गांव को 60 के दशक में बसाया गया था, तब ये इतना विकसित नहीं था। लेकिन बाद में कम्युनिस्ट पार्टी के नेता वू रेनवाओ ने इस गांव की सूरत ही बदल दी।

यहां का हर किसान टुकड़ों के बजाय ग्रुप में खेती करने लगा। सामूहिक खेती की वजह से लोगों को जबरदस्त फायदा हुआ। इसके अलावा Huaxi गांव ने अपने लौह और इस्पात उद्योग को विकसित किया। 21वीं सदी की शुरुआत तक, Huaxi में 100 से अधिक कंपनियां हो गईं, जिनमें लोहा, इस्पात, तंबाकू के कारोबार से जुड़ी कंपनियां शामिल थीं। 

यह भी पढ़ें : काजीरंगा राष्ट्रीय उद्यान में लगाए गए 6 कैमरे, जानिए अब कितनी होनी चाहिए आपकी गाड़ी की स्पीड

हालांकि, 2008 के बाद यहां के इस्पात उद्योग में गिरावट आई और अधिक उत्पादन एक समस्या बन गई। धीरे-धीरे ये समस्या बढ़ती गई। पिछले साल जनवरी में आई एक रिपोर्ट के मुताबिक, Huaxi गांव 465 करोड़ के कर्ज में आ गया था। 2013 में Huaxi के निर्माता वू रेनबाओ के निधन के बाद, उनके बेटे वू ज़िएन ने Huaxi ग्रुप के सीईओ के रूप में पदभार संभाला। वू परिवार के अन्य सदस्य भी इस गांव में महत्वपूर्ण पदों पर हैं। आलोचना करने वाले कहते हैं कि ये गांव अब 'एक परिवार द्वारा शासित एक सामंती दुनिया' बन गया है। 

आर्थिक मदद के लिए सरकारी सहायता दी जा रही है, लेकिन इसके बलबूते वो कब तक चलेगा, इसपर संशय बना हुआ है। सामूहिक धन के संदिग्ध कुप्रबंधन और खराब निवेश निर्णयों के बाद ये गांव दिवालिया होने की कगार पर आ गया है।