चीन और भारत के बीच लद्दाख स्थित वास्तविक नियंत्रण रेखा पर हुई हिंसक झड़प के बाद हुई तनातनी के दो दिन बाद पड़ोसी देश ने बड़ी बात स्वीकार की है। चीन ने इस हिंसक झड़प में अपने 30 सैनिकों के मारे जाने की पुष्टि की है। चीन के मीडिया ग्लोबल टाइम्स की रिपोर्ट के मुताबिक चीन ने दोनों देशों की सेना के बीच हुई हिंसक झड़प में मारे गए 30 सैनिकों के नामों की सूची जारी की है। वहीं, भारत ने इस झड़प में एक कमांडिंग ऑफिसर सहित शहीद 20 जवानों के नाम की सूची पहले ही जारी कर दी थी।


रिपोर्ट के मुताबिक 15 जून की रात को लद्दाख की गालवान घाटी में चीनी और भारतीय सैनिकों के बीच गंभीर रूप से हिंसक झड़प हो गई थी। इस संबंध में भारत सरकार ने स्वीकार कर लिया है कि उसके 20 सैनिक शहीद हुए थे। हालांकि चीन की तरफ से आधिकारिक रूप से कोई आंकड़ा सामने नहीं आया था। हांलाकि अब भारत के साथ चीन की सीमा की सुरक्षा की देखरेख करने वाले पश्चिमी थिएटर कमान के एक प्रवक्ता ने भारतीय कार्रवाई में मारे गए 30 चीनी सैनिकों के नाम जारी किए हैं।


इन 30 नामों की सूची में पहला नाम मेजर लिन जियाहो (शाओ ज़िआओ) का है। इसके बाद दूसरा नाम कैप्टन मेंग जियांग (शांग वी) का है। फिर कैप्टन कुई कांग (शांग वी) का नामहै। बता दें कि शाओ ज़िआओ का सेना में मतलब जूनियर फील्ड ऑफिसर यानी मेजर का होता है। जबकि शांग वी का मतलब सेना के वरिष्ठ अधिकारी यानी कप्तान का होता है।

इसके बाद मारे गए सैनिकों में झोंग वी का मतलब मिडिल ऑफिसर यानी फर्स्ट लेफ्टिनेंट से होता है। इस झड़प में चीन के हुआंग मू, पेंग गुईइंग, सोंग ज़ान, लियांग यैन नाम के फर्स्ट लेफ्टिनेंट यानी झोंग वी भी मारे गए। जबकि इसके बाद सीनियर सार्जेंट ऑफिसर (यी जी जुन शी झांग) या फिर सार्जेंट मेजर झाओ ज़िया का नाम मारे जाने वालों की सूची में है।


जबकि अन्य मारे गए सैनिकों में झेंग वू, ताओ यी, कोंग ही, झी योंग, गु कांग, टैन फेंग, ज़ू चिन, रेन अह, लू यिन, तियान ज़ेक्सी, दू मिन, झोंग गुईंग, ही हुआंग, गाओ यांग, ये चेन, झू याहुई, जियान जिंगी, शि लुओयांग, वान याज़ु, झांग ली, यी सुन और मो ज़ूफ़ेंग का नाम जारी किया गया है।


वहीं, अगर भारत की ओर से शहीद जवानों की बात करें तो यह समूचे देश से आए थे। इनमें पश्चिम में पंजाब से लेकर पूर्व में पश्चिम बंगाल और बिहार तक के सैनिक शहीद हुए हैं।