पूरे राज्य भर में नागरिकता(संशोधन) विधेयक 2016 के विरोध राज्य भर जोरदार विरोध प्रदर्शन हो रहा है। इस कड़ी में आज असम संग्रामी मंच व लिबरेशन डेमोक्रेटिक पार्टी ने भी इस विधेयक के विरोध में हुंकार भरते हुए कहा कि मुख्यमंत्री सर्वानंद सोनोवाल विधेयक पर अपनी स्थिति स्पष्ट करें।


वे विधेयक पर अपनी स्थिति स्पष्ट करें। वे विधेयक का समर्थन करते हैं या विरोध करते हैं। मुख्यमंत्री सोनोवाल केंद्र सरकार की नीति का संरक्षण कर रहे हैं वही राज्यवासियों के साथ छलावा कर रहे हैं।


बुधवार को गुवाहाटी प्रेस क्लब में मंच व पार्टी की ओर से संयुक्त रूप से आयोजित एक संवाददाता सम्मेलन में मंच की ओर से एसजे बेजबरूवा ने कहा। उन्होंने कहा कि मुख्यमंत्री बार-बार कह रहे हैं कि 30 जून को एनआरसी का दूसरा मसौदा प्रकाशित होगा, जिसके बाद स्थिति स्पष्ट हो जाएगी, लेकिन हम यह मांग कर रहे हैं कि मुख्यमंत्री इस विधेयक पर अपनी स्थिति स्पष्ट कब तक करेंगे।


उनका कहना है कि पूरे असम में इस जाति ध्वंसी विधेयक का पूरजोर विरोध हो रहा है वहीं भाजपा नेता मुकदर्शक बने हुए हैं। उनका यह भी कहना है कि पहले कांग्रेस सरकार इस विधेयक को लाना चाहती थी पर आज जब भाजपा इसे लाना चाहती है तो कांग्रेसी नेता भी विरोध कर रहे हैं। वहीं उनका कहना है कि अगर यह विधेयक ग्रीष्मकालिन अधिवेशन में पास हो जाता है तो मुख्यमंत्री, अगप तीनों मंत्री व नेता, भाजपा के 7 सांसद व कांग्रेस क्या करेंगे।


इसका समर्थन करेंगे या विरोध करेंगे। उनका कहना है कि कांग्रेस खुद दो भागों में विभक्त है। इस विधेयक को लाने में कांग्रेस की अहम भूमिका थी पर आज वहीं कांग्रेस इस विधेयक का विरोध कर रही है जो समझ से परे है।