दिल्ली विधानसभा में विपक्ष के नेता रामवीर सिंह बिधूड़ी ने राजधानी में फंसे प्रवासी श्रमिकों को सुरक्षित उनके गृह राज्यों में भेजने तथा अन्य प्रदेशों में फंसे यहां के लोगों को वापस लाने के मुद्दे सहित कोरोना महामारी से जुड़े अन्य गम्भीर मामलों पर विचार के लिए मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल से सर्वदलीय बैठक बुलाने की मांग की है।


बिधूड़ी ने गुरुवार को कहा कि उचित व्यवस्था के अभाव में रोज हजारों की संख्या में श्रमिक पैदल ही अपने गृह प्रदेशों को जाने के लिये मजबूर हो रहे हैं। इनमें छोटे-छोटे बच्चे बुजुर्ग और यहां तक कि गर्भवती महिलाएं भी दिल्ली के विभिन्न हिस्सों से अपने गृह राज्यों को पैदल चली जा रही हैं। जगह-जगह उनकी पुलिस से भिड़ंत हो रही है। यह सब कुछ बहुत ही दु:खद है।



उन्होंने कहा कि दिल्ली सरकार केंद्र से बातचीत कर इस समस्या का उचित समाधान निकाले। केजरीवाल को आज लिखे एक पत्र में बिधूड़ी ने कहा कि सर्वदलीय बैठक में प्रवासी श्रमिकों के मुद्दे पर विस्तार से विचार किया जाए और सरकार यदि भाजपा से कोई मदद चाहती है तो लिए पार्टी हरसंभव मदद करने को तैयार है। उन्होंने कहा कि राजधानी में कोरोना के मामले रुकने का नाम नहीं ले रहे। रोज तीन-चार सौ की संख्या में मरीज सामने आ रहे हैं। दूसरी ओर कोरोना योद्धाओं की हालत खराब है।


उनकी ओर से बार-बार यह शिकायत आ रही है कि उनको न मास्क,न पीपीई किट और न ही अन्य उपकरण ही दिए जा रहे हैं। ऐसे में बड़ी संख्या में डॉक्टर, नर्स, सुरक्षाकर्मी, शिक्षक, राशन विक्रेता आदि कोरोना की चपेट में आ रहे हैं। बिधूड़ी ने कहा कि सरकार हॉटस्पॉट पर तैनात ऐसे तमाम योद्धाओं को जरूरी उपकरण मुहैया कराए और कोई बड़ा निजी अस्पताल इन कोरोना योद्धाओं के इलाज के लिए चिह्नित करे।


पत्र में कहा गया है कि कोरोना महामारी के इस संकट को राशन वितरण की खामियों ने और बढ़ाया है। राशन केंद्रों पर राशन नहीं पहुंचने से जरूरतमंद लोग परेशान हैं। उन्होंने मुख्यमंत्री से मांग की कि वह तुरंत एक सर्वदलीय बैठक बुलाएं जिसमें इन सभी मुद्दों पर विचार किया जा सके।