छत्तीसगढ़ के बस्तर में करीब 200 नक्सलियों को Corona वायरस हो गया है जिनमें 10 मर भी चुके हैं। बस्तर नक्सल प्रभावित इलाका है और यहां ग्रामीण क्षेत्र में लोग ज्यादा जागरूक नहीं हैं। हालांकि कई तस्वीर बस्तर से ऐसी भी सामने आई हैं जिमसें गांव के लोगो ने खुद ही गांव में लॉकडाउन लगा दिया है। लेकिन अगर समग्रता में देखें तो हालात चिंताजनक हो सकती है। अब उस खबर के बारे में भी जान लीजिए जिसको लेकर इतनी बात कही गई है।
दरअसल दंतेवाड़ा जिले के एसपी डॉ अभिषेक पल्लव ने ये दावा किया है की करीब 200 नक्सली कोरोना संक्रमित हो सकते हैं। जबकि 10 नक्सलियों की कोरोना से मौत भी हो चुकी है। अगर ऐसा है तो बस्तर के अंदरूनी इलाले में जहां स्वास्थ्य सेवाओं की पहुंच नहीं है वहां बड़ी आपदा आ सकती है क्योंकि नक्सली अभी भी गांव में ग्रामीणों के साथ बैठक कर रहे हैं।
दंतेवाड़ा एसपी डॉ अभिषेक पल्लव ने ये दावा किया है कि, करीब 200 नक्सली कोरोना संक्रमित हुए हैं। इसके अलावा 8-10 शव नक्सलियों के जलाए गए हैं। जो कोरोना से संक्रमित हो सकते हैं। पल्लव ने बताया कि करीब 15 दिन पहले करीब 500 की संख्या में नक्सली बस्तर के जंगलों में इकट्ठा हुए थे। एक्सपायरी दवा खाने से फ़ूड पॉइजनिंग और सोशल डिस्टेंसिंग का पालन नहीं करने की वजह से बड़ी संख्या में नक्सली कोरोना संक्रमित हुए हैं। नक्सली इस बात को छिपा रहे हैं।
ऐसे में बस्तर के आदिवासी इलाकों में उनकी बैठकों से कोरोना की बड़ी आपदा इस इलाके में आ सकती है। नक्सलियों के कमांडर और बड़े स्तर के नक्सली या तो कोरोना से संक्रमित हैं या मर चुके हैं। हालांकि अभी नक्सलियों का इस मामले में कोई पर्चा या प्रेस रिलीज सामने नहीं आया है।
दंतेवाड़ा जिले के एसपी अभिषेक पल्लव का कहना है कि नक्सली अभी दवाई ढूढ़ने में लगे हैं। जिसकी सूचना पुलिस के पास है। अगर नक्सली पुलिस के सामने सरेंडर करते हैं तो पुलिस उनका इलाज करएगी। पुलिस ये भी कह रही है कि नक्सली अभी इस पूरे मामले में कुछ भी नहीं कह रहे हैं। जब इसकी सूचना बाहर आएगी तब इसकी जानकारी मिलेगी की नक्सलियों का कितना बड़ा नुकसान हुआ है।