चेन्नई के अरिग्नार अन्ना जूलॉजिकल पार्क (वंडलूर चिड़ियाघर) में चार शेर कोरोनावायरस के संक्रामक डेल्टा वेरिएंट से पीड़ित हैं। चिड़ियाघर प्रशासन ने यह जानकारी दी है। वंडलूर चिडिय़ाघर के अधिकारियों के अनुसार, चिड़ियाघर ने 11 शेरों के नमूने आईसीएआर-राष्ट्रीय उच्च सुरक्षा पशु रोग संस्थान (एनआईएचएसएडी) भोपाल को भेजे थे।

नमूनों की जांच के बाद एनआईएचएसएडी ने कहा कि नौ शेर सार्स सोओवी-2 यानी कोरोनावायरस से संक्रमित हैं। संक्रमण से पीड़ित शेरों का सक्रिय उपचार चल रहा है। वंडलूर चिड़ियाघर ने एनआईएचएसएडी से शेरों को संक्रमित करने वाले सार्स सीओवी-2 वायरस के जीनोम सीक्वेंसिंग के परिणामों को साझा करने का अनुरोध किया था। एनआईएचएसएडी के अनुसार, चार नमूनों की जीनोम सीक्वेंसिंग पैंगोलिन वंश बी.1.617.2 से संबंधित पाई गई है। विश्व स्वास्थ्य संगठन (डब्ल्यूएचओ) के नामकरण के अनुसार इनमें डेल्टा वेरिएंट पाया गया है।

चिड़ियाघर ने कहा कि 11 मई को, डब्ल्यूएचओ ने बी.1.617.2 वंश को वेरिएंट ऑफ कंसर्न यानी चिंता का एक प्रकार (वीओसी) के रूप में वगीर्कृत किया था और कहा था कि यह उच्च संचरण क्षमता और कम तटस्थता का सबूत दिखाता है। चूंकि डेल्टा वेरिएंट काफी तेजी से अन्य जानवरों में संक्रमित कर सकता है, इसलिए अतिरिक्त सतर्कता बरती जा रही है। इस बीच, तमिलनाडु सरकार ने टाइगर रिजर्व, राष्ट्रीय उद्यानों, वन्यजीव अभयारण्यों रिजर्व फॉरेस्ट और अन्य जगहों पर जंगली और बंदी जानवरों में कोविड-19 संक्रमण की रोकथाम और शमन के बारे में अधिकारियों को सहायता और मार्गदर्शन प्रदान करने के लिए एक राज्य स्तरीय टास्क फोर्स का गठन किया है। राज्य स्तरीय टास्क फोर्स का नेतृत्व सरकार, पर्यावरण, जलवायु परिवर्तन और वन विभाग की प्रमुख सचिव सुप्रिया साहू करेंगी और इसमें छह सदस्य शामिल होंगे।