भारत में पेट्रोल की कीमतों ने लोगों को काफी परेशान कर रखा है. देश के कई शहरों में पेट्रोल कीमतें 100 रुपये प्रति लीटर के आंकड़े से पार निकल चुकी हैं. भारत के अलावा भी कई देशों में पेट्रोल की कीमतें आसमान छू रही हैं. लेकिन दुनिया में कुछ देश ऐसे भी है, जहां पानी से भी कम दाम पर पेट्रोल बिक रहा है. वहीं, एक देश में तो पेट्रोल के रेट भारत में बिकने वाली माचिस की डिब्बी की कीमत के बराबर है. अगर इंटरनेशनल मार्केट में क्रूड ऑयल के रेट को देखें तो ये 87 डॉलर प्रति बैरल पर ट्रेड कर रहा है. वहीं, अमेरिकी क्रूड भी 80 डॉलर प्रति बैरल पर पहुंच गया है. 

 मणिपुर आसियान के प्रवेश द्वार के रूप में उभरेगा: केंद्रीय मंत्री

अब अगर क्रूड ऑयल के रेट को लीटर के हिसाब देखें, तो एक बैरल में 158.987 लीटर पेट्रोल होता है. अब 87 डॉलर के हिसाब से एक लीटर क्रूड की कीमत करीब 45 रुपये प्रति लीटर होगी. ये तो रहा इंटरनेशल मार्केट की दर पर बिकने वाले कच्चे तेल का हिसाब-किताब. अब बताते हैं कि दुनिया में सबसे सस्ता पेट्रोल कहां बिक रहा है. दुनिया के कई देशों में पेट्रोल को गैसोलीन भी कहा जाता है. 

पेट्रोल और गैसोलीन वास्तव में एक ही चीज हैं. बस इनके नाम अलग हैं. यूके, भारत और कुछ अन्य देशों में पेट्रोल कहा जाता है, जबकि अमेरिका और अन्य देशों में पेट्रोल को गैसोलीन कहा जाता है. आज हम आपको 5 ऐसे देशों का नाम बताने वाले हैं, जहां पेट्रोल की कीमत 30 रुपये प्रति लीटर के आसपास है.

अमेरिका के पड़ोसी देश वेनेजुएला में कच्चे तेल का विशाल भंडार है. Globalpetrolprices.com के मुताबिक पेट्रोल (गैसोलिन) 2 रुपये लीटर से भी कम (1.31 रुपये/लीटर) में बिक रहा है. दुनिया में सबसे सस्ता पेट्रोल फिलहाल वेनेजुएला में ही बिक रहा है. इसके बाद लिबिया, ईरान, अंगोला, अल्जीरिया, और कुवैत में सबसे सस्ता पेट्रोल मिल रहा है. लिबिया में पेट्रोल 2.54 रुपये प्रति लीटर की दर पर मिल रहा है.

ईरान में पेट्रोल का भाव 4.34 रुपये लीटर है. वेनेजुएला की तरह ही ईरान में कच्चे तेल का बड़ा भंडार है. ईरान से कच्चा तेल खरीदारों में भारत भी एक रहा है.अल्जीरिया में एक लीटर पेट्रोल की कीमत 27.07 रुपये लीटर है. कुवैत में पेट्रोल 27.89 रुपये प्रति लीटर के भाव पर बिक रहा है. पेट्रोल के ये आंकड़े 14 नवंबर के आधार पर हैं.

मुख्यमंत्री माणिक साहा का दावा, राज्य में महिलाओं के खिलाफ अपराध में 30% की कमी आई

इंटरनेशल मार्केट में क्रूड ऑयल की कीमतों में नरमी है. भारत ने इस साल रूस से कच्चे तेल का आयात काफी बढ़ाया है. रूस-यूक्रेन युद्ध के पहले जहां भारत के कुल क्रूड आयात में रूस की हिस्सेदारी 2 फीसदी भी नहीं थी. वहीं अब ये 20 फीसदी के करीब पहुंच गई है. भारत ईरान से भी बड़ी मात्रा में कच्चे तेल खरीदता है. लेकिन रूस से बढ़ी सप्लाई के बाद ईरान से खरीदारी में गिरावट आई है.