दिल्ली पुलिस की क्राइम ब्रांच टीम ने दिल्ली हिंसा मामले में मंगलवार को कड़कड़डूमा कोर्ट में चार्जशीट दायर कर दी है। दिल्ली पुलिस ने चार्जशीट में आम आदमी पार्टी के पूर्व पार्षद ताहिर हुसैन को हिंसा का मास्टरमाइंड बताते हुए 15 लोगों को आरोपी बनाया है। इन लोगों में ताहिर हुसैन का भाई शाह आलम भी शामिल है।


हिंसा मामले में 1030 पन्नों की चार्जशीट बनाई गई है। इस मामले में 70 गवाह हैं। चार्जशीट के मुताबिक हिंसा के वक्त ताहिर हुसैन अपने घर की छत पर था। ताहिर हुसैन पर हिंसा कराने का आरोप है। हिंसा फैलाने में 1 करोड़ 30 लाख से ज्यादा रुपये खर्च किए गए। चार्जशीट में दंगा फैलाने के लिए ताहिर के भाई शाह आलम को भी आरोपी बनाया गया है।


दंगो से पहले ताहिर हुसैन ने सीएए और एनआरसी के प्रदर्शनकारियों के साथ मीटिंग की थी। इसके साथ ही उनसे जेएनयू के पूर्व छात्र उमर खालिद से भी बात की थी। हालांकि पुलिस ने इस चार्जशीट में उमर खालिद को आरोपी नहीं बनाया।

चार्जशीट के मुताबिक, सुनियोजित तरीके से दिल्ली हिंसा की पूरी तैयारी की गई थी। ताहिर हुसैन ने लोगों से बात की थी और उसी वक्त तय किया गया था कि जब अमेरिका के राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप दिल्ली आएंगे।