उत्तराखंड में चारधाम यात्रा पर देश के अलग अलग कोनों से आने वाले श्रद्धालुओं के लिए अच्छी खबर है। केंद्र सरकार के प्रोजेक्ट ऑल वेदर रोड के द्वारा चल रहे कार्यों में तेजी के चलते चारधामों को जोड़ने का कार्य जल्द पूरा कर लिया जायेगा, जिसके चलते 889 किलोमीटर के इस प्रोजेक्ट पर 625 जगह पर ऑल वेदर रोड कार्य किए जा रहे हैं। साथ ही चार धाम यात्रा पर उत्तराखंड आने वाले श्रद्धालु देश के अलग-अलग हिस्सों से अपने निजी वाहनों से भी यात्रा कर सकेंगे, जिसके चलते भारत सरकार ने चारधाम यात्रा को जोड़ने के लिए प्रयास किया है। ये यहां आने वाले श्रद्धालुओं के लिए सुगम और बेहतर यात्रा का एहसास कराएगा।

भानियावाला से एयरपोर्ट तक का करीब 19 किलोमीटर का एलिवेटेड रोड बनेगा। इसके लिए डीपीआर तैयार कर ली गई है। इस प्रस्ताव में एक एलिवेटेड रोड का भी प्रस्ताव है। यह एलिवेटेड रोड भानियावाला से एयरपोर्ट तक बनेगा। एलिफेंट कॉरिडोर को देखते हुए एलिवेटेड रोड बनाने की योजना शुरू की जाएगी। फोरलेन होने से एयरपोर्ट जाने वाले यात्रियों को काफी सुविधा होगी। साथ ही वह ट्रैफिक जाम में भी नहीं फसेंगे। लिहाजा पूरे राज्य में सड़कों का चौड़ीकरण हो या फिर नई सड़कें बनने की योजनाएं, उनको लेकर लोक निर्माण विभाग की ओर से कार्य किए जा रहे हैं। साथ ही देहरादून से एयरपोर्ट और ऋषिकेश जाने वाले लोगों को बेहतर सुविधा मिलेगी। जिसके चलते करीब 19 किलोमीटर का एलिवेटेड रोड बनाने की योजना की जा रही है।

एलिवेटेड रोड का निर्माण उन जगहों पर होता है, जहां ट्रैफिक ज्यादा रहती है। एलिवेटड रोड तकनीकी रूप से एक पुल की तरह होता है। वैसे इलाकों में एलिवेटेड रोड निर्माण को प्राथमिकता दी जाती है। जहां घनी आबादी की वजह से जमीन का अधिग्रहण मुश्किल हो जाता है। इसके अतिरिक्त नजदीकी इलाकों को भी एलिवेटड रोड के सहारे जोड़ा जा सकता है। आज दुनिया भर के वैसे शहर जहां आबादी घनी और ट्रैफिक ज्यादा है, वहां एलिवेटेड रोड के निर्माण में वृद्धि देखी जा रही है, जिसके चलते भानियावाला से एयरपोर्ट तक का करीब 19 किलोमीटर का एलिवेटेड रोड बनने जा रहा है।