पंजाब विधानसभा चुनाव (Punjab Assembly Election 2022) के लिए उम्मीदवारों के नाम पर शनिवार को मुहर लगनी थी. लेकिन, इस पर ग्रहण लग गया. कांग्रेस केंद्रीय चुनाव कमेटी की बैठक में उम्मीदवारों के नाम पर फैसला नहीं हो पाया. बताया जा रहा है कि बैठक के दौरान मुख्यमंत्री चरणजीत सिंह चन्नी (Charanjit Singh Channi) और पंजाब प्रदेश कांग्रेस के अध्यक्ष नवजोत सिंह सिद्धू (Navjot Singh Sidhu) के मतभेदों के चलते प्रत्याशियों के नाम तय नहीं हो पाये.

आखिरकार कांग्रेस ने 31 उम्मीदवार तय करने के लिए एक कमेटी का गठन कर दिया. कमेटी में पार्टी के महासचिव केसी वेणुगोपाल, वरिष्ठ कांग्रेस नेता अंबिका सोनी और पंजाब चुनाव के लिए स्क्रीनिंग कमेटी के चेयरमैन बनाये गये अजय माकन को शामिल किया गया है. न्यूज एजेंसी एएनआई ने सूत्रों के हवाले से यह जानकारी दी है.

उधर, पंजाब प्रदेश कांग्रेस के अध्यक्ष नवजोत सिंह सिद्धू ने एक बार फिर अपने तेवर जाहिर किये हैं. उन्होंने कहा है कि मुख्यमंत्री तय करने के लिए हाईकमान बैठा है. मैंने पंजाब मॉडल किसी पद के लिए नहीं बनाया है. मैं सिर्फ पंजाब के बारे में सोचता हूं. पंजाब मेरा पैसन है. मैं सिर्फ इतना चाहता हूं कि मैं पंजाब के विकास के लिए काम करूं.

नवजोत सिंह सिद्धू ने इस दौरान पूर्व प्रधानमंत्री डॉ मनमोहन सिंह को भी याद किया. उन्होंने कहा कि पंजाब के आसन्न विधानसभा चुनाव में रोजगार सबसे अहम मुद्दा है. सिद्धू ने कहा कि कौशल विकास के जरिये पंजाब में उद्यमी तैयार होंगे और उन्हें अलग-अलग तरह के खेलों से जोड़ा जायेगा. उन्होंने कहा कि पंजाब का विकास मॉडल डॉ मनमोहन सिंह की सोच से जुड़ा है.

पंजाब प्रदेश कांग्रेस के अध्यक्ष ने कहा कि पंजाब मॉडल में 109 इंडस्ट्रियल और 13 फूड प्रोसेसिंग क्लस्टर बनाने की योजना है. उन्होंने कहा कि मोहाली को हम आईटी हब और स्टार्टअप सिटी में तब्दील करेंगे. हम मोहाली को उत्तर भारत के सिलिकॉन वैली के रूप में देख रहे हैं. टेस्ला के मालिक एलन मस्क को मैं पंजाब में आमंत्रित करूंगा और उनसे आग्रह करूंगा कि वे लुधियाना में सबसे बड़ा इलेक्ट्रिक व्हिकल इंडस्ट्री स्थापित करें.