इस साल यानि 2021 का अंतिम चंद्र ग्रहण (Last Chandra Grahan 2021) 19 नवंबर शुक्रवार को लग रहा है। इसी दिन कार्तिक मास के शुक्ल पक्ष की पूर्णिमा तिथि भी है। ये ग्रहण खंडग्रास यानी आंशिक चंद्र ग्रहण है। इस साल का पहला चंद्र ग्रहण 26 मई को लगा था और ये साल का दूसरा और अंतिम चंद्र ग्रहण है।

19 अक्टूबर को चंद्र ग्रहण का समय (Date and timing of Chandra Grahan in India) भारतीय समयानुसार सुबह 11:32 मिनट से शुरू होकर कर शाम 05:33 मिनट पर खत्‍म होगा। भारत में ये ग्रहण समाप्ति के दौरान आंशिक तौर पर दिखेगा। आंशिक होने की वजह से इस ग्रहण का सूतक मान्य नहीं होगा यानी पूजा-पाठ संबंधित किसी भी तरह की पाबंदियां मान्य नहीं होंगी।

चंद्र ग्रहण (Lunar eclipse visibility in India) भारत में यह चंद्र ग्रहण उपछाया के रूप में दिखाई देगा। भारत में ये ग्रहण केवल अरुणाचल प्रदेश और देश के पूर्वी सीमांत क्षेत्रों में दिखाई देगा। इसके अलावा अमेरिका, उत्तरी यूरोप, पूर्वी एशिया, ऑस्ट्रेलिया और प्रशांत महासागर क्षेत्र में इस चंद्र ग्रहण को देखा जा सकेगा। ज्योतिष के अनुसार ये चंद्र ग्रहण वृष राशि और कृत्तिका नक्षत्र में लगेगा।

साल का यह अंतिम चंद्र ग्रहण वृष राशि में लग रहा है इसलिए इस राशि के जातकों को ग्रहणकाल के दौरान सबसे ज्यादा सावधान रहने की जरूरत है। इन राशि के जातकों को स्वास्थ्य से संबंधित समस्याएं परेशान कर सकती हैं। इसके अलावा सिंह राशि, वृश्चिक राशि और मेष राशि के जातकों को भी इस ग्रहण के दौरान स्वास्थ को लेकर बहुत ज्यादा सावधानी बरतने की जरूरत है। इसके अलावा इन राशियों को कुछ आर्थिक हानि भी उठानी पड़ सकती है। इस ग्रहण काल के दौरान किसी भी तरह के निवेश से बचने की जरूरत है वरना आपको भारी नुकसान हो सकता है।