एक बार फिर मौसम ने अपना मिजाज बदल लिया है। तेज हवाओं के साथ झमाझम बारिश से ठंड लौट रही है। जिससे कई इलाकों में भारी बारिश हो रही है। वर्षा के कारण कनकनी भी बढ़ी है। राजधानी रांची समेत रामगढ़, हजारीबाग, कोडरमा, जमशेदपुर, खूंटी और धनबाद समेत कई इलाकों में जमकर बारिश हो रही है। मौसम विभाग ने आज और कल वर्षा के साथ ही ओले गिरने की चेतावनी दी है। कई जिलों में हल्की तो कुछ जिलों में जोरदार बारिश हुई। इसी के साथ जमशेदपुर और पलामू में भी अच्छी बारिश हुई। एक दो जगह बारिश के साथ ओलावृष्टि की भी संभावना व्यक्त की गई है। मौसम विभाग के निदेशक डॉ एसडी कोटाल ने कहा है कि 16 से मौसम पूरी तरह साफ हो जाएगा।

आज व कल होगी बारिश

लगभग सभी जिलों में कहीं हल्के दर्जे की तो कहीं बूंदा-बांदी हुई। वहीं, मौसम विभाग के मुताबिक अगले पांच दिन यानी पंद्रह मार्च तक यही हाल रहेगा। आसमान में बादल छाए रहेंगे। हालांकि मौसम विभाग के निदेशक डॉ एसडी कोटाल ने कहा है कि 15 मार्च की शाम से ही बादल छंटने शुरू हो जाएंगे और 16 से मौसम पूरी तरह साफ हो जाएगा। निदेशक के अनुसार 13 को वे ऑफ बंगाल में बने पश्चिमी विक्षोभ और नॉर्थ ईस्ट में वेस्टर्न डिस्टर्बेंस आपस में टकराने वाले हैं। इस कारण 13 मार्च को सभी जिलों में मध्यम दर्जे की बारिश होगी। इधर, बादल व बारिश के कारण दिन के तापमान में दो से तीन डिग्र्री की और गिरावट देखने को मिल सकती है। हालांकि इस दौरान रात के न्यूनतम तापमान में खास बदलाव देखने को नहीं मिलेगा।
बेमौसम बारिश से फसलों को नुकसान

बारिश ने किसानों के माथे पर चिंता की लकीर उकेर दी है। किसानों का मानना है कि अत्यधिक बारिश से रबी फसल के साथ आम, लीची जैसे बागवानी फसल के साथ-साथ महुआ व चिरौंजी जैसे वनोत्पाद फसल के भी नुकसान पहुंचने की संभावना है। जिन किसानों ने रबी फसलकर काटकर खलिहानों में रखा है, उन्हें भी भारी नुकसान हुआ है। आपकी जानकारी के लिए बता दें कि अधिक बारिश से फसलों में लगे फूल व मंजर झड़ जाएंगे या कमजोर हो जाएंगे। दाना या फल पुष्ट नहीं हो पाएगा। इस मौसम में फसलों के लिए कम-से-कम 28-30 डिग्री तापमान चाहिए, जो अभी नहीं है।