सिंघम स्टाइल में खुद बिना मास्क घूमना और लोगों को डंडे मारकर खदेड़ना एक दारोगा को भारी पड़ गया है। कुछ लोगों ने दारोगा की फोटो वायरल की तो अधिकारियों ने तत्काल संज्ञान लिया और दारोगा का ही चालान कर दिया गया। मामला वाराणसी के गंगा घाट का है। वाराणसी के जिलाधिकारी कौशल राज शर्मा ने कोरोना का कहर बढ़ता देख शाम चार बजे के बाद लोगों के घाट पर टहलने पर रोक लगा दी है।

जिलाधिकारी के आदेश का पालन कराने सोमवार की शाम चार बजे तुलसी घाट पर अस्सी चौकी पर तैनात दारोगा गौरव उपाध्याय पहुंच गए। लोगों को प्रोटोकाल का पालन कराने की उन पर जिम्मेदारी थी लेकिन वह खुद प्रोटोकाल का उल्लंघन करते दिखाई दिये। खुद बिना मास्क लगाए ही लोगों को डंडे से खदेड़ते दिखे। 

रीवा घाट के समीप जो टहलते मिले उसे दारोगा ने लाठी से पीटने शुरू कर दिया। इस दौरान दारोगा की पिस्टल भी होल्स्टर (लेदर केस) की जगह फिल्मी स्टाइल में कमर में दिखाई दी। कुछ लोगों को दारोगा का यह रूप पसंद नहीं आया और तस्वीरें पुलिस कमिश्नरेट को ट्वीट कर दी। तस्वीर ट्वीट होते ही पुलिस एक्शन में आ गई। पुलिस कमिश्नरेट वाराणसी की तरफ से बताया गया कि भेलूपुर इंस्पेक्टर ने सार्वजनिक स्थान पर मास्क नहीं लगाने के कारण दारोगा का चालान कर दिया है।