भारत में कोरोना की दूसरी लहर का प्रकोप कम हो रहा है।  हालांकि डेल्टा वैरिएंट के आने के बाद आशंका जताई जा रही है कि यह तीसरी लहर का कारण हो सकती है।  इसी बीच एक राहत की खबर है।  कोविड वर्किंग ग्रुप के चेयरमैन डॉ. एनके अरोड़ा ने कहा है कि तीसरी लहर आने में अभी 6-8 महीने का वक्त है।  उन्होंने जुलाई या अगस्त से बच्चों को भी वैक्सीन लगने की उम्मीद जताई है। 

कोविड वर्किंग ग्रुप के चेयरमैन डॉ. एनके अरोड़ा ने कहा, आईसीएमआर ने एक स्टडी की है, उसके अनुसार कोरोना की तीसरी लहर देर से आएगी।  हमारे पास 6-8 महीने का समय है. सबको टीका लगाने के लिए हमारे पास इतना वक्त है।  आने वाले वक्ते में हम हर दिन 1 करोड़ टीके लगाएंगे। 

रविवार सुबह सात बजे तक जारी टीकाकरण संबंधी आंकड़ों के अनुसार, भारत में एक दिन में 64.25 लाख कोविड-19 रोधी टीके लगने से अब तक देशव्यापी अभियान के तहत कुल 32.17 करोड़ खुराक दी जा चुकी है।  इसके अलावा 17,45,809 और नमूनों की जांच की गई. इसके साथ ही देश में अब तक 40,18,11,892 नमूनों की जांच हो चुकी है। 

सवाल उठता है कि क्या वैक्सीन की दो डोज़ लेने के बाद इस वायरस के संक्रमण से बचा जा सकता है? इसको लेकर दुनिया भर में इन दिनों अलग-अलग रिसर्च किए जा रहे हैं।  बता दें कि कोई भी वैक्सीन बनाने वाली कंपनी ये नहीं कहती है कि दो डोज़ लेने के बाद दोबारा कोरोना नहीं होगा, बल्कि सिर्फ ये दावा किया जा रहा है कि वैक्सीन लेने के बाद संक्रमण होता भी है तो आपको हॉस्पिटल जाने की नौबत नहीं आएगी।