केंद्र सरकार नए साल में पूर्वोत्तर के पर्वतीय प्रदेशों में आपातकालीन स्वास्थ्य सेवाएं मुहैया करवाने के लिए मोबाइल एयर डिस्पेंसरी सेवा शुरू करने जा रही है. हेलीकॉप्टर में चलने वाली इस डिस्पेंसरी में स्वास्थ्य सेवा के लिए जरूरी सामान और चिकित्सक होंगे.

फिलहाल सरकार ने दो हवाई डिस्पेंसरी के लिये 80 से 100 करोड़ रुपए आवंटित करने की मंजूरी दे दी है. डिस्पेंसरी का संचालन शिलांग और इंफाल से होगा. बतादें असम को छोड़कर बाकी के छह प्रदेशों में हवाई डिस्पेंसरी के जरिये आपात स्वास्थ्य सेवाएं उपलब्ध कराई जाएंगी.

आधिकारिक दस्तावेजों के मुताबिक, तीन केंद्रीय मंत्रालयों की ओर से इसके लिए पवन हंस हेलीकॉप्टर की सेवाएं ली जाएंगी. परियोजना से संबंधित आधिकारिक टिप्पणी में कहा गया है, प्रस्तावित परियोजना की पहली बैठक में पवन हंस के प्रतिनिधि मौजूद थे, जिन्होंने इस योजना की तारीफ की.

पवन हंस को मोबाइल एयर एंबुलेंस सेवा प्रदान करने के लिए कहा गया. पवन हंस की ओर से तैयार की गई परियोजना रपट में छह प्रदेशों में दो हेलीकॉप्टर के संचालन पर अनुमानित लागत 1.87 करोड़ रुपये प्रति माह बताई गई है.