CBSE 12वीं परीक्षा के आयोजन को लेकर कई तरह की राजनीति हो रहा है लेकिन अभी तक कोई ठोस फैसला नहीं लिया गया है। कोरोना काल में बच्चों की सेहत और भविष्य को लेकर बहुत ही चिंता जताई जा रही है। एक तरफ बच्चों का भविष्य पढ़ाई ना होने के कारण खतरे में हैं और दूसरी ओर कोरोना जैसी खतरना बीमारी होने का डर है। इसी के कारण शिक्षा मंत्रालय फैसला करने में परेशान हैं।

शिक्षा मंत्री रमेश पोखरियाल की अध्य क्षता में हाई लेवल मीटिंग के आयोजन में सभी राज्योंा को इस बारे में सलाह देने को कहा गया है।  सूत्रों की मानें तो इस बार सीबीएसई 12वीं की परीक्षा सिर्फ 30 मिनट की होगी। इस बारे में केंद्र की ओर से अब कोई आधिकारिक सूचना जारी नहीं की गई है। 12वीं बोर्ड परीक्षा आयोजित करने के लिये शिक्षा मंत्रालय और बोर्ड, विभिन्नस विकल्पोंो पर विचार कर रहा है।


CBSE ने कहा है कि छात्रों और अभिभावकों को आधिकारिक फैसला आने तक इंतजार करना चाहिए। बता दें कि सीबीएसई कक्षा 12वीं बोर्ड परीक्षा 2021 रद्द करने के खिलाफ सुप्रीम कोर्ट में याचिका दायर की गई थी, जिसे सोमवार तक के लिये स्थ्गित कर दिया गया है। सुप्रीम कोर्ट के जस्टिस एएम खानविलकर की अगुआई वाली बेंच इस महामारी के बीच कक्षा 12वीं की बोर्ड परीक्षा रद्द करने की मांग वाली याचिका पर सुनवाई कर रही है।