देश मे भ्रष्टाचार की कमी नहीं है, हर राजनेता, सरकारी कर्मचारी कई लोग इस भ्रष्टाचार की नहर में डूबे हुए हैं। हाल ही में सेंट्रल ब्यूरो ऑफ इंवेस्टिगेशन (CBI) के भोपाल में मारे गए छापे में बड़ा खुलासा किया जिसमें CBI ने जब भारतीय खाद्य निगम (FCI) के बाबू किशोर मीणा के घर छापा मारा तो CBI का दिमांग सन्न रह गया और ढेर सारा सोना-चांदी और कैश देखकर चौंक गई।


क्लर्क के घर से करोड़ों रुपए नगदी, नोट गिनने की मशीन, सोने-चांदी के जेवर और करोड़ो की संपत्ति के दस्तावेज बरामद हुए। CBI को उसके पास से एक डायरी भी बरामद हुई है, जिसमें कई बड़े अफसरों के नाम भी शामिल हैं। CBI ने अधिकारी ने बताया कि इन अफसरों की मदद से FCI में बड़े पैमाने पर भ्रष्टाचार कर करोड़ों के वारे-न्यारे किए जा रहे थे। CBI  ने बताया कि किशोर मीणा FCI के कार्यालय में सिक्योरिटी गार्ड हुआ करता था।

हैरानी की बात तो यह है कि अफसरों की मेहरबानी से यह किशोर मीणा क्लर्क बना और फिर कई बड़े अफसरों के साथ भ्रष्टाचार का महागठबंधन कर करोड़पति बन गया। इसका खुलासा तब हुआ जब दिल्ली स्थित सिक्योरिटी कंपनी ने CBI को शिकायत की थी, कि भोपाल स्थित FCI दफ्तर में पदस्थ अधिकारी उनसे सिक्योरिटी सर्विस का बिल पास करने के लिए 10% रिश्वत मांग रहे हैं।

इस शिकायत पर CBI की टीम ने जाल बिछाकर सिक्योरिटी कंपनी के अधिकारी रिश्वत देने के लिए एक लाख रुपए लेकर FCI के सिक्योरिटी मैनेजर और अकाउंट मैनेजर के पास पहुंचे तो उन्होंने रिश्वत की राशि जैसे ही अधिकारियों को दी वैसे ही CBI की टीम ने दोनों मैनेजर को दबोच लिया।  CBI की पूछताछ में मैनेजरों ने डिवीजन मैनेजर के नाम का खुलासा किया। CBI क्लर्क किशोर मीणा के घर टीम ने छापामार कार्रवाई की तो कार्रवाई में एक फर्नीचर के कवर्ड में रखी तिजोरी मिली।


तिजोरी में 2.66 करोड़ रुपए नगद बरामद हुए और साथ ही, आरोपी के घर से 6 किलो चांदी, 387 ग्राम सोना बरामद, नोट गिनने की मशीन,  करोड़ों की संपत्ति के दस्तावेज, लेन-देन के दस्तावेज और कई बेनामी संपत्तियों का कागजात भी मिले है। इतना ही नहीं किशोर के द्वारा संचालित बैंक अकाउंट में भी एक करोड़ से ज्यादा की राशि होना बताई जा रही है। इस राशि के लिए बैंक अकाउंट भी सीबीआई की टीम खंगाल रही है।