पटना। बिहार के पूर्व उप मुख्यमंत्री एवं भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) के राज्यसभा सदस्य सुशील कुमार मोदी ने आज कहा की केंद्रीय जांच ब्यूरो (सीबीआई) रेलवे भर्ती घोटाला मामले में राजद नेता शिवानंद तिवारी, जदयू अध्यक्ष राजीव रंजन सिंह और पूर्व सांसद शरद यादव के ज्ञापन पर ही पूर्व केंद्रीय मंत्री लालू प्रसाद यादव, उनकी पत्नी राबड़ी देवी और दो पुत्री समेत सोलह लोगों के खिलाफ कार्रवाई कर रहा है। 

यह भी पढ़े :RBI Alert for Cyber Fraud : पुराने सिक्के और नोट ऑनलाइन बेचने से पहले सावधान , ठगी के हो सकते हैं शिकार

मोदी ने कहा, शिवानंद जी, ललन जी एवं शरद यादव ने 22 अगस्त, 2008 को तत्कालीन प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह को सीबीआई जांच के लिए जो ज्ञापन दिया था, उसी पर सीबीआई ने कार्रवाई की है। लालू जी भूल गए कि कानून के हाथ लंबे होते हैं और अपराध कभी मरता नहीं है।

पूर्व उप मुख्यमंत्री ने कहा कि सीबीआई की प्राथमिकी में अभियुक्त पिंटू कुमार जिसे 'जमीन के बदले नौकरी' घोटाले में पश्चिमी रेलवे, मुंबई में वर्ष 2008 में नौकरी मिली थी, के पिता विष्णु देव राय और उसके भाई ब्रजनंदन राय ने सीवान के ललन चौधरी और गोपालगंज के हृदयानंद चौधरी को पटना की कीमती जमीन रजिस्ट्री कर दी। 

यह भी पढ़े : Weekly Horoscope 22 -28 May 2022 : सूर्य के समान चमकेगा इन राशि वालों का भाग्य, वृश्चिक और धनु राशि वालों पर रहेगी विशेष कृपा

उन्होंने कहा कि क्या संयोग है कि ललन और हृदयानंद दोनों को एक ही दिन यानी 29 मार्च, 2008 को जमीन रजिस्ट्री की गई।