रेलवे भर्ती घोटाला के मामले में केंद्रीय जांच ब्यूरो (सीबीआई) ने आज पूर्व रेल मंत्री और राष्ट्रीय जनता दल (राजद) अध्यक्ष लालू प्रसाद यादव, उनकी पत्नी राबड़ी देवी और बड़ी पुत्री मीसा भारती के 17 ठिकानों पर छापेमारी की। 

ये भी पढ़ेंः आखिरकार रद्द करना पड़ा राज ठाकरे को अयोध्या दौरा, इस भाजपा सांसद ने किया था विरोध


सीबीआई सूत्रों के अनुसार ब्यूरो की टीम ने शुक्रवार को सुबह पटना, दिल्ली और गोपालगंज समेत 17 ठिकानों पर एक साथ छापेमारी की। पटना के 10 सर्कुलर रोड स्थित बिहार की पूर्व मुख्यमंत्री राबड़ी देवी के सरकारी आवास पर सीबीआई की आठ सदस्यीय टीम छापेमारी कर रही है । गौरतलब है कि वर्ष 2004 से 2009 के बीच जब लालू प्रसाद यादव रेल मंत्री थे तब आरोप के अनुसार उन्होंने रेलवे में नौकरी के बदले में जमीन अपने परिजनों के नाम पर लिखवाए थे। इसी मामले में लालू यादव के और उनकी बेटी के खिलाफ एक नया मामला दर्ज किया गया है।

ये भी पढ़ेंः अब घर बैठे मिलेगी यूनिवर्सिटी की डिग्री, ऐसे करें ऑनलाइन ऑर्डर


लालू यादव के ठिकानों पर RJD विधायक मुकेश रोशन ने कहा कि जिस तरीके से नीतीश कुमार और तेजस्वी यादव के बीच में इफ्तार पार्टी के बाद दूरियां कम हुई है और दोनों साथ नजर आते हैं इससे बीजेपी परेशान है। रोशन ने कहा कि बीजेपी के इशारे पर ही सीबीआई की छापेमारी चल रही है। रोशन ने कहा कि बीजेपी लालू परिवार को परेशान और तंग करने के इरादे से रेड करवा रही है। लालू की बेटी रोहिणी आचार्य ने सीबीआई की कार्रवाई को लेकर तंज कसा है। उन्होंने ट्वीट किया, लालू के रेलवे कार्यकाल में बड़ी लापरवाही हुई, सावरकर के वंशज का आरोप लालू जी ने रेलवे को 90,000 करोड़ का मुनाफा कैसे दिया, जिस लालू ने लाखों युवाओं के लिए रेलवे में भर्ती कैसे निकाली, कुलियों को स्थायी क्यों किया ? उस लालू पर 15 साल बाद छापा मरवाया जा रहा है और आगे भी जारी रहेगा।