केंद्रीय जांच ब्यूरो (सीबीआई) (CBI) ने कहा कि उन्होंने तृणमूल कांग्रेस के नेता और पश्चिम बंगाल में बर्दवान नगर पालिका के अध्यक्ष प्रणब चटर्जी (TMC leader Pranab Chatterjee) को चिटफंड धोखाधड़ी मामले (chit fund fraud case) में गिरफ्तार किया है। मामला पोंजी योजनाओं से संबंधित है, जो पश्चिम बंगाल और ओडिशा से रिपोर्ट किए गए थे।

सीबीआई (CBI) ने कहा कि आरोपी ने कथित तौर पर नियामक अधिकारियों से अपेक्षित अनुमति के बिना मैच्योरिटी पर उच्च दर के रिटर्न के वादे के साथ किसी योजना में निवेश करने के लिए बड़े पैमाने पर जनता को आकर्षित किया। बड़ी संख्या में निवेशकों ने अपनी गाढ़ी कमाई का पैसा उक्त ट्रस्ट के साथ निवेश किया, जिसे आरोपी चला रहे थे। यह भी आरोप लगाया गया कि ट्रस्टी मैच्योरिटी राशि चुकाने में विफल रहे, निवेशकों को धोखा दिया, उनकी गाढ़ी कमाई का दुरुपयोग किया, शाखाएं बंद कर दीं और भाग गए।

सीबीआई (CBI) ने पाया कि चटर्जी (Pranab Chatterjee) ट्रस्ट और ट्रस्टियों के साथ करीबी से जुड़े थे। चटर्जी ने कथित तौर पर निजी इस्तेमाल के लिए ट्रस्ट से 3 करोड़ रुपये से अधिक की हेराफेरी की। सीबीआई ने शुक्रवार को आरोपी के परिसरों की तलाशी ली, जिसमें कई आपत्तिजनक सामग्री बरामद हुई। चटर्जी को विशेष सीबीआई अदालत (CBI Court) में पेश किया गया, जिसने उन्हें दो दिन की सीबीआई हिरासत में भेज दिया।