पाकिस्तान अधिकृत कश्मीर में भारतीय सेना के द्वारा की गई सर्जिकल स्ट्राइक (Surgical Strike) पर तेलंगाना के मुख्यमंत्री चंद्रशेखर राव (Telangana Chief Minister Chandrashekhar Rao) ने केंद्र सरकार से सबूत मांगा है। पुलवामा हमले की बरसी पर सोमवार को मीडिया से बात करते हुए सीएम ने कहा कि मैं आज भी सर्जिकल स्ट्राइक का सबूत मांग रहा हूं। सरकार को सबूत पेश करने दो। उन्होंने कहा कि भाजपा झूठा प्रचार करती है। 

उनकी इस टिप्पणी के बाद मामला गरमाता जा रहा है. कई केंद्रीय मंत्रियों और नेताओं की ओर से आलोचना किए जाने के बाद अब असम में कई भाजपा समर्थकों की शिकायतों के आधार पर, असम पुलिस ने तेलंगाना के मुख्यमंत्री के खिलाफ सर्जिकल स्ट्राइक के लिए सबूत मांगने और सेना का अपमान करने को लेकर मामला दर्ज कर लिया है.

असम पुलिस के सूत्रों ने बताया कि भारतीय जनता पार्टी के कई समर्थकों की शिकायतों के आधार पर, असम पुलिस ने तेलंगाना के मुख्यमंत्री के चंद्रशेखर राव के खिलाफ भारतीय सेना की ओर से किए गए सर्जिकल स्ट्राइक के लिए सबूत मांगने और भारत विरोधी भावनाओं को प्रोत्साहित करने की कोशिश के लिए मामला दर्ज किया है.

बता दें कि चंद्रशेखर राव ने कहा कि सेना सीमा पर लड़ रही है। कोई मर रहा है, तो वह सेना के जवान हैं। उन्हें इसका श्रेय देना चाहिए, लेकिन भाजपा राजनीतिक रूप से सर्जिकल स्ट्राइक का उपयोग कर रही है। बता दें कि राव की टिप्पणी पर असम के मुख्यमंत्री हिमंता बिस्वा सरमा (Assam Chief Minister Himanta Biswa Sarma) ने आलोचना की है। 

सरमा ने राव के इस बयान का वीडियो शेयर करते हुए ट्वीट किया, 'पुलवामा हमले की बरसी पर विपक्ष ने फिर सर्जिकल स्ट्राइक पर सवाल उठाकर हमारे शहीदों का अपमान किया है। केसीआर और कांग्रेस गांधी परिवार के प्रति अपनी वफादारी साबित करने की होड़ में है। हमारी वफादारी भारत के साथ है। सशस्त्र बलों पर सवाल उठाने वालों को बख्शा नहीं जाएगा।'