पंजाब कांग्रेस में चल रही कलह (Punjab Congress Crisis) के बीच इन दिनों पूर्व मुख्‍यमंत्री कैप्‍टन अमरिंदर सिंह (Amarinder Singh) दिल्ली में सक्रिय हैं। इस बीच कुछ टीवी चैनलों के अनुसार, कैप्‍टन अमरिंदर सिंह ने कहा कि वह कांग्रेस छोड़ देंगे। एक टीवी चैनल से बातचीत में कैप्‍टन अमरिंदर सिंह ने कहा कि उन्‍होंने (कांग्रेस नेतृत्‍व) ने मुझ़े अपमानित किया। मैं कांग्रेस (congress) छोड़ दूंगा। उन्‍होंने कहा कि अब अपमान सहन नहीं होता है। इसके साथ ही उन्‍होंने अभी भाजपा सहित किसी भी पार्टी में शामिल होने से इन्‍कार किया। उन्‍होंने साफ काि कि वह भाजपा में नहीं जा रहे हैं। इस तरह कैप्‍टन अम‍रिंदर सिं‍ह (Amarinder Singh) के कांग्रेस छोड़ने की अटकलों पर एक तरह से मुहर लगती दिख रही है।

बता दें कि गुरुवार को अमरिंदर सिंह ने नई दिल्ली में राष्ट्रीय सुरक्षा सलाहकार अजित डोभाल (NSA ajit dhoval) से मुलाकात की। इस मुलाकात को कई मायनों में इसलिए भी महत्वपूर्ण माना जा रहा है कि पंजाब के पूर्व मुख्यमंत्री से मुलाकात के तुंरत बाद एनएसए डोभाल केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह (Amit Shah) से मुलाकात के लिए रवाना हो गए। बुधवार शाम को अमरिंदर सिंह ने गृह मंत्री अमित शाह से मुलाकात की थी और दोनों नेताओं के बीच लगभग एक घंटे तक बातचीत हुई थी। इस मुलाकात के अगले दिन यानी आज अमरिंदर सिंह का राष्ट्रीय सुरक्षा सलाहकार से मुलाकात करना और उसके तुरंत बाद राष्ट्रीय सुरक्षा सलाहकार का गृह मंत्री से मुलाकात करना , इसे पंजाब के हालात और राष्ट्रीय सुरक्षा के मसले से जोडकऱ देखा जा रहा है।

हालांकि बुधवार को अमित शाह से मुलाकात के बाद ट्वीट करके अमरिंदर सिंह ने बताया था कि उन्होने अमित शाह से मुलाकात कर कृषि कानूनों के खिलाफ चल रहे किसानों के आंदोलन के मुद्दें पर बात की। गृह मंत्री से कृषि कानूनों को निरस्त करने और एमएसपी की गारंटी देकर इस संकट को जल्दी खत्म करने का अनुरोध किया। गुरुवार को अमरिंदर सिंह के एनएसए डोभाल से मुलाकात को अब इसी नजरिये से देखा जा रहा है। गौरतलब है कि अमरिंदर सिंह लगातार नवजोत सिंह सिद्धू के पाकिस्तानी कनेक्शन को उठाकर उन्हे पंजाब और राष्ट्रीय सुरक्षा के लिए खतरा बताते रहे हैं। अमरिंदर सिंह के इन्ही बयानों का सहारा लेकर भाजपा भी लगातार सिद्धू और कांग्रेस आलाकमान पर निशाना साध रही है।