पिछले हफ्ते ब्रिटिश कोलंबिया में तापमान का रिकॉर्ड तोड़ने वाली भयानक गर्मी को पश्चिमी कनाडा के समुद्री तटों पर 100 करोड़ से ज्यादा समुद्री जीवों के मरने के लिए जिम्मेदार माना जा रहा है। पांच दिनों की भयानक गर्मी का असर उत्तर-पश्चिमी अमरीका में भी देखने को मिला। वैज्ञानिकों का कहना है कि तापमान इतना ज्यादा बढ़ गया कि ये समुद्र जीव उसे बर्दाश्त नहीं कर पाए और मारे गए। तटों पर दूर-दूर तक मरे हुए सीप और घोंघे दिखाई दे रहे हैं। 

गर्मी का अंदाजा इस बात से लगाया जा सकता है कि सड़कों पर दरारें आ गई और घरों की दीवारें तक पिघल गई थीं। दो हफ्ते तक पड़ी भयानक गर्मी के चलते पश्चिमी अमरीका और कनाडा के पास समुद्री तट पर करीब 100 करोड़ से ज्यादा समुद्री जीव मरे पाए गए। इस दौरान सैकड़ों लोगों की जान चली गई और सैकड़ों जंगल आग की चपेट में आ गए। समुद्री जीवन पर इस गर्मी का बेहद बुरा असर पड़ा है।

ब्रिटिश कोलंबिया यूनिवर्सिटी में जूलॉजी विभाग के प्रोफेसर क्रिस्टोफर हार्ले का मानना है कि रेकॉर्ड तोड़ गर्मी के चलते एक अरब से ज्यादा समुद्री प्रजातियां मर चुकी हैं। चट्टानी तटों की पारिस्थितिकी पर जलवायु परिवर्तन के प्रभावों का अध्ययन करने के लिए उन्होंने वैंकूवर क्षेत्र में समुद्र तट पर टहलने के दौरान दावा किया कि वो पिछले दिनों मारे गए जीवों को तट पर सूंघ सकते हैं। हार्ले ने यहां तक कहा कि तट पर बहुत सारे खाली मसल्स सीप बिखरे हैं। जब हम समुद्र तट पर चलते हैं तो यह मरे हुए जानवरों पर टहलने जैसा है।