मिजोरम के विधानसभा चुनावों के लिए सोमवार शाम प्रचार थम गया। राज्य में 28 नवंबर को मतदान है। राज्य की कुल 40 सीटों के लिए भी एक ही चरण में मतदान कराया जाएगा आैर 7,70,395 मतदाता अपने मताधिकार का उपयोग करेंगे। राज्य के मुख्य चुनाव अधिकारी (सीईओ) आशीष कुंदरा ने बताया कि स्वतंत्र और निष्पक्ष मतदान कराने के लिए सभी तैयारियां पूरी हो गई हैं। राजधानी आइजोल में मीडिया से बातचीत में कुंदरा ने कहा कि वह प्रबंधों से ‘पूरी तरह संतुष्ट’ हैं।


आशीष कुंद्रा ने सोमवार को कहा कि राज्य विधानसभा की 40 सीटों के लिए बुधवार को निष्पक्ष चुनाव कराने के लिए चुनाव तंत्र पूरी तरह से तैयार है। उन्होंने कहा कि 28 नवंबर को होने वाले चुनाव में 209 उम्मीदवार मैदान में हैं। इन प्रत्याशियों की किस्मत का फैसला 7,70,395 मतदाता करेंगे। जिसमें 3,94,897 महिलाएं हैं। पूर्वोत्तर में मिजोरम एकमात्र राज्य है जहां कांग्रेस की सरकार है। राज्य में कांग्रेस 2008 से सत्ता में है और उसकी नजरें तीसरी बार सरकार बनाने पर हैं।

आशीष ने बताया कि त्रिपुरा के छह राहत शिविरों में रह रहे 12,026 ब्रू मतदाताओं के लिए मामित जिले के कन्हमुन गांव में वोट डालने की व्यवस्था की गई है। उन्होंने कहा, कान्हमुन गांव में व्यवस्थाओं की बात करते हुए कुंद्रा ने कहा कि 11967 ब्रू शरणार्थियों द्वारा मतदान के लिए 15 विशेष मतदान केन्द्र बनाए गए हैं। ये लोग मिजोरम के तीन जिलों की नौ विधानसभा सीटों का हिस्सा हैं।' उन्होंने बताया कि ग्रामिणों ने ब्रू मतदाताओं के स्वागत के लिए गांव की सीमा पर स्वागत द्वार बनाया है। कुंद्रा ने मिजोरम के सभी मतदाताओं से बुधवार को अपने मताधिकार का इस्तेमाल करने का आग्रह किया।


बता दें कि साल 2013 के विधानसभा चुनाव में कांग्रेस ने 34 सीटों पर जीत दर्ज की थी जबकि मिजो नैशनल फ्रंट (एमएनएफ) के खाते में पांच और मिजोरम पीपुल्स कॉन्फ्रेंस की झोली में एक सीट आई थी। कांग्रेस और मुख्य विपक्षी एमएनएफ ने 40-40 सीटों पर अपने प्रत्याशी खड़े किए हैं जबकि बीजेपी 39 सीटों पर मैदान में है। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी, बीजेपी अध्यक्ष अमित शाह और कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी समेत अन्य बड़े नेता भी चुनाव प्रचार के लिए राज्य पहुंचे।