दूध अभी बहुत ज्यादा महंगा हो रहा है लेकिन आपको जानकर हैरानी होगी कि इससे 30 गुना ज्यादा महंगा ऊंटनी का दूध बिक रहा है।  25 हजार रुपये किलो में भी लोग इसे खरीदते हैं। बता दें कि केमल मिल्क को लेकर एक नई रिपोर्ट जारी की है। इसके मुताबिक भले ही ऊंटनी का दूध गाय के दूध जितना लोकप्रिय नहीं है लेकिन, फिर भी यह काफी महंगा मिलता है।

इसके उत्पादन की बात करें तो दुनिया भर में उत्पादित 600 मिलियन मीट्रिक टन गाय के दूध की तुलना में हर साल लगभग 3 मिलियन टन ऊंटनी के दूध का उत्पादन होता है। हालांकि, पूरे अफ्रीका और मध्य पूर्व में ऊंटनी का दूध काफी लोकप्रिय है। अकेले सोमालिया और केन्या ऊंटनी के दूध का 64 प्रतिशत उत्पादन करते हैं।

 

यह भी पढ़ें- असम की नुमालीगढ़ रिफाइनरी लिमिटेड ने मुख्यमंत्री राहत कोष में दिए 2.5 करोड़ रुपये



ऊंटनी के दूध के फायदे


ऊंटनी के दूध में एंटीऑक्सीडेंट की मात्रा ज्यादा होती है, जो आपके सेल्स को किसी भी तरह से होने वाली बीमारियों से लड़ने में मदद करती है। इससे कैंसर, डायबिटीज और हार्ट से जुड़ी गंभीर बीमारियां का इलाज होता है।


इसमें कई तरह के विटामिन और मिनरल हैं


विटामिन A

विटामिन B

विटामिन C

विटामिन D

विटामिन E

कैल्शियम

पोटैशियम


एक कप ऊंटनी के दूध के फायदे

केवल एक कप ऊंटनी के दूध में ही कई फायदे होते हैं. इसमें 107 कैलोरी, 5.4 ग्राम प्रोटीन, 4.6 ग्राम फैट, 3 ग्राम सेचुरेटेड फैट, 11 ग्राम कार्बोहाइड्रेट और 8 ग्राम शुगर होता है.
डायबिटीज - ऊंटनी के दूध से डायबिटीज की संभावना कम हो जाती है। भारत के ही एक समुदाय पर डायबिटीज न होने को लेकर रिसर्च की गई तो पाया कि यहां के लोग सबसे ज्यादा ऊंटनी का दूध पीते हैं।