पुलवामा आतंकी हमले में मारे गए 44 सेना जवानों के गम में पुरा देश गमगीन है , साथ ही पाकिस्तान के खिलाफ देश के लोगों का गुस्सा चरम सीमा पर है। लोग पाक को दुनिया से हटाने के मांग कर रहे हैं। भारत को पाक के साथ अंतिम युद्ध करने को कह रहे हैं।लोग मशाल,केंडल लेकर पाक का झंडा जला कर पाक मुर्दाबाद के नारे लगा कर जुलुस निकाल रहे हैं।

पूर्वोत्तर के असम में भी इसका व्यापक असर देखने को मिला। असम के लोग शहीद हुए जवानों के परिवारों के साथ एकजुटता व्यक्त करने के लिए सभी व्यापारीसंगठन सीएआईटी द्वारा आहूत देशव्याप व्यापार बंद रखा। व्यापारिक प्रतिष्ठानों के साथ-साथ बैंक, एलआईसी आदी पूर्णतय बंद रहे।

सतिया से नि.सं. के मुताबिक आहूत देशव्यापी व्यापार बंद का असर देखने को मिला। इससे ये तो साफ जाहिर होता है कि पाकिस्तान के खिलाफ भारत के लोगों में कितना क्रोध है। नगांव में भी शहीदों को श्रद्धांजली देते हुए समूचे देश के साथ नगांव में भी व्यापार बंद रहा।  विश्वनाश चाराली, चापरमुख, तेजपुर में सभी दुकानें और वाणिज्यिक प्रतिष्ठानें बंद रहे ।

पुलवामा हमले के प्रति संवेदना व्यक्त करने के लिए सीएआईटी के द्वारा घोषित देशव्यापी व्यवसाय बंद में का प्रभाव बहुत हुआ है। लोगों ने  छह बजे दीप प्रज्ज्वलित कर शहीदों के परिवार के प्रति संवेदना ज्ञापन कियाय़।

इसी बीच पुलवामा हमले के विरोध में व्यापार बंद के अलावा जिला मुख्यालयों में भी व्यावसयिक गतिविधियां ठप रही।व्यापारियों का कहना है कि पाकिस्तान ने अब हद कर दी है  और अब भारत सरकार को इसका मुंह तोड़ जवाब देने के लिए पाक से अंतिम लड़ाई शुरु कर देनी चाहिए।

कंफेडरेशन ऑफ ऑल इंडिया ट्रेडर्स के राष्ट्रीय उपाध्यक्ष तथा असम चैंबर ऑफ कॉमर्स के अध्यक्ष रूपम गोस्वामी ने देश के लिए एकजुटता और आतंकवाद के खिलाफ रोेष प्रकट करने के लिए बुलाए गए इस बंद में सहयोग के लिए व्यापारियों का आभार व्यक्त किया।