असम प्रदेश भाजपा ने कहा है कि फैंसी बाजार के व्यापारियों की सुरक्षा को लेकर भाजपा की सरकार को कांग्रेस पार्टी के नेताओं से सीख लेने की जरूरत नहीं है।

न ही कांग्रेस के नेता को फैंसी बाजार के व्यापारियों को लेकर किसी प्रकार की चिंता करने की जरूरत है। क्योंकि पूर्व मुख्यमंत्री तरूण गोगोई पहले ही कह चुके हैं कि उन्हें फैंसी बाजार के काला व्यापारियों को वोट नहीं चाहिए।

पार्टी प्रवक्ता प्रमोद स्वामी ने कहा है कि जिनके घर शीशे के होते हैं वे दूसरे के घर पर पत्थर नहीं फेंकते। पूर्व मुख्यमंत्री तरुण गोगोई को यह समझना चाहिए कि आरएसएस राजनीतिक दल नहीं है और वह सांस्कृतिक राष्ट्रवाद के लिए काम करती है।

स्वामी ने कहा है कि कांग्रेस पार्टी के कुछ नेता फैंसी बाजार की चिंता करने लगे हैं लेकिन उन्हें यह याद रखना चाहिए कि मारवाड़ी सम्मेलन के कार्यक्रम में बतौर मुख्य अतिथि पहुंचे पूर्व मुख्यमंत्री गोगोई ने फैंसी बाजार के व्यापारियों का काला व्यापारी कह कर अपमान किया था। 

उन्होंने कहा है कि दिवाली के दिन आठगांव में हुई एक छोटी सी घटना को देखते हुए ऐहतियातन कदम के तहत देर रात में सड़क पर दुकान लगाने वालों को प्रशासन ने दुकान बंद करने को कहा था और इसमें कोई बहुत बड़़ी बात नहीं है।