बर्गर किंग के IPO को दिसंबर 2020 में लॉन्च किया गया था। इसके आईपीओ को निवेशकों का जबर्दस्त रिस्पॉन्स मिला था। शानदार लिस्टिंग के बाद भी बर्गर किंग के शेयरों में तेजी देखी जा रही है। ऐसे में निवेशकों को इस कंपनी ने महज 7 महीने में शानदार रिटर्न दिया है।

दरअसल, बर्गर किंग का आईपीओ दिसंबर में ओपन हुआ था, और इसका प्राइस बैंड 59-60 रुपये प्रति शेयर था। जबकि इसकी शेयर बाजार में लिस्टिंग 108.40 रुपये पर हुई पर थी। फिलहाल ये शेयर 180 रुपये के आसपास है।

अब तक Burger King के शेयर पर अपने इश्यू प्राइस से करीब 200 फीसदी चढ़ चुका है, और यानी आईपीओ निवेश के पैसे केवल 7 महीने में तिगुने हो चुके हैं। बर्गर किंग के IPO का लॉट साइज 250 शेयरों का था। जिन रिटेल निवेशक ने 15 हजार रुपये लगाए होंगे, उनके पैसे बढ़कर अब करीब 45 हजार रुपये हो गए होंगे।

बाजार के जानकारों का कहना है कि कंपनी के जिस तरह का कारोबार है, उसे देखते हुए शेयर में आगे भी बढ़त की संभावना है। कोरोना के मामले थमते ही कारोबार में तेजी देखने को मिल सकती है।

बर्गर किंग अपने IPO के जरिए 810 करोड़ रुपये जुटाए थे। बर्गर किंग का आईपीओ साल- 2020 में सबसे ज्यादा सब्सक्राइब होने वाला दूसरा इश्यू था। इस इश्यू को 354 गुना बोलियां मिली थीं। कंपनी इस फंड का इस्तेमाल नए रेस्टोरेंट खोलने और कर्ज के रीपेमेंट या प्रीपेमेंट करने पर कर रही है।

गौरतलब है कि कंपनी ने भारत में अपना पहला रेस्टोरेंट नवंबर 2014 में खोला था। कंपनी के पास फिलहाल देश के 17 राज्यों और 57 शहरों में 268 रेस्टोरेंट हैं, इनमें से 8 फ्रेंचाइजी हैं जो एयरपोर्ट्स पर हैं और बाकी कंपनी ओन्ड हैं।