बांदा जेल में बंद माफिया मुख्तार अंसारी के करीबी कोयला माफिया उमेश सिंह के तीनों बेटों के नाम से बने चार मंजिला मकान को सिटी माल के रूप में संचालित किया जा रहा था।  अवैध रूप से चल रहे इस मॉल पर अभी जिला प्रशासन बुलडोजर चला हैं।  

शनिवार की सुबह जिलाधिकारी के आदेश पर अवैध रूप से निर्मित मॉल को बुलडोजर से ध्वस्त किया जा रहा है।  मॉल की अनुमानित कीमत लगभग 10 करोड़ रुपये है। एडीएम सीओ सिटी व कई थानों की फोर्स शहर कोतवाली थाना क्षेत्र के भीटी चौराहे के समीप ध्वस्तीकरण की कार्रवाई में जुटी हुई है। 

कोयला माफिया एवं त्रिदेव कंस्ट्रक्शन के मालिक व माफिया मुख्तार अंसारी के सहयोगी उमेश सिंह का आज प्रशासन ने भीटी में बने बिल्डिंग को ध्वस्त करा रही है। प्रशासन के इस कार्रवाई से माफियाओं में हड़कंप मच हुआ है।  गौरतलब है कि जिला प्रशासन लगातार मुख़्तार और उनके करीबियों पर ताबड़तोड़ कार्रवाई में जूटा हुआ है। 

गौरतलब है कि कोतवाली स्थित भीटी त्रिदेव कंस्ट्रक्शन की एक मॉल सिटी मेगा मार्ट के नाम से चल रही थी।  एक साल पहले प्रशासन ने इसके संचालन पर रोक लगा दिया था।  उसके बावजूद भी मेगा मार्ट चल रहा था।  जिस पर आज प्रशासन ने कड़ा रवैया अख्तियार करते हुए बैरिकेडिंग कर इसको ध्वस्त कर रहा है। 

नगर क्षेत्राधिकारी ने बताया कि भवन संख्या 987 भीटी जो उमेश सिंह के तीन लड़को अजय, विजय व विनय सिंह के नाम से है, जिसे आरबी एक्ट की धारा 10 के अंतर्गत भवन को अवैध करार देते हुए डीएम के आदेश पर ध्वस्त कराया जा रहा है। संपत्ति कीमत लगभग 10 करोड़ की आंकी जा रही है।  मौके पर काफी संख्या में पुलिस बल तैनात हैं।  मौके पर एडीएम, सीओ सिटी, तहसीलदार, लेखपाल व कई थानों की पुलिस भी मौजूद है।