बीएसएफ जवान सुमन सिंह की मृत्यु के बाद उनके पार्थिव शरीर को विदाई देने देर रात सैकड़ों लोग उमड़ पड़े। घर से उनकी शवयात्रा भारत माता के जयकारों के साथ निकली। गांव के हीं श्मशान घाट पर उनका दाह संस्कार किया गया। श्मशान तट पर बीएसएफ के जवानों ने उन्हें गार्ड ऑफ ऑनर दिया। आपको बता दें कि अरुणाचल प्रदेश में तैनात सुमन बीमार थे और उनका इलाज एम्स दिल्ली में चल रहा था। शुक्रवार को उन्होंने अंतिम सांस ली और शनिवार संध्या उनका पार्थिव शरीर सड़क मार्ग से उनके पैतृक गांव लाया गया।

उनके निधन की खबर आते ही क्षेत्र में शोक की लहर फैल गई। दो दिनों से गांव में चूल्हा तक नहीं जला। ज्ञात हो कि सुमन की दो वर्ष पहले ही शादी हुई थी और एक छोटा बच्चा है। वहीं मृतक जवान के बडे़ भाई पवन कुमार सिंह भी सीमा सुरक्षा बल में है। सुमन 2011 बैच में भर्ती हुए थे। वे 73 बटालियन में अरुणाचल प्रदेश की सीमा पर तैनात थे। परिजनों ने बताया कि वह अवकाश पर आये थे उसी दौरान सिर में दर्द हुए जिसके बाद उन्हें एम्स में भर्ती कराया गया था वहीं इलाजरत रहते हुए उनकी मौत की खबर आ गई।

उनके निधन पर विधायक मनोज कुमार यादव , पूर्व विधायक उमाशंकर अकेला, जिला परिषद सदस्य रामस्वरूप पासवान, मुखिया संघ अध्यक्ष राजदेव यादव, मुखिया पप्पु कुमार, ब्रह्मर्षि समाज अध्यक्ष सुधीर सिंह, बीडीओ अमित कुमार श्रीवास्तव, थाना प्रभारी नितिन सिंह सहित अन्य ने गहरी संवेदना प्रकट की।