ब्रिटिश नेवी के एक अधिकारी गुरुग्राम में भारतीय नेवी के ऑफिस में तैनात किया गया है। अब आप सोच रहे होंगे कि भारतीय नौसेना के ऑफिस में ब्रिटिश अधिकारी का क्या काम? तो आगे हम इसकी वजह बताने जा रहे हैं। दरअसल भारतीय नौसेना के इंफोर्मेशन फ्यूज़न सेंटर (आईएफसी) में एक ब्रिटिश संपर्क अधिकारी की नियुक्ति की गई है। इस अधिकारी को हिंद महासागर में निगरानी के लिए ब्रिटेन की तरफ से तैनात किया गया है।

आईएफसी हिंद महासागर से संबंधित समुद्री सुरक्षा सूचना के एक प्रमुख केंद्र के रूप में उभरा है। हिंद महासागर ऐसा क्षेत्र है जहां चीनी नौसैनिकों की गतिविधियों में वृद्धि देखी गयी है। गुड़गांव स्थित आईएफसी में भारत के कुछ रणनीतिक साझेदारों ने अपने अधिकारियों की नियुक्ति की है। ब्रिटिश उच्चायोग ने कहा, 'ब्रिटेन के अंतर्राष्ट्रीय संपर्क अधिकारी (आईएलओ) ने आज भारतीय नौसेना के इंफोर्मेशन फ्यूज़न सेंटर-हिंद महासागर क्षेत्र (आईएफसी-आईओआर)में अपना कार्यभार संभाल लिया।'

भारतीय नौसेना ने 2018 में आईएफसी-आईओआर की स्थापना की ताकि समान विचारधारा वाले देशों के साथ सहयोगात्मक ढांचे के तहत इस क्षेत्र में पोतों के आवागमन के साथ ही अन्य महत्वपूर्ण घटनाक्रम पर प्रभावी ढंग से नज़र रखी जा सके। विमानवाहक पोत एचएमएस क्वीन एलिजाबेथ के नेतृत्व में ब्रिटेन के कैरियर स्ट्राइक ग्रुप की भारत की निर्धारित यात्रा से पहले केंद्र में अधिकारी की नियुक्त की गयी है।

उच्चायोग ने कहा कि लेफ्टिनेंट कमांडर स्टीफन स्मिथ केंद्र में पूर्णकालिक काम करेंगे। वह भारतीय सशस्त्र बलों तथा साझेदार देशों के सहयोगी संपर्क अधिकारियों के साथ मिल कर काम करेंगे। बिटिश नौसेना के प्रमुख एडमिरल टोनी राडाकिन ने इसे भारत और ब्रिटेन दोनों द्वारा समुद्री क्षेत्र जागरूकता की दिशा में एक महत्वपूर्ण कदम बताया। ऑस्ट्रेलिया ने फरवरी में इस केंद्र में अपना संपर्क अधिकारी नियुक्त किया था।