केंद्र शासित प्रदेश लद्दाख के लेह में कृत्रिम झील के फटने से कई गांवो में रविवार को अचानक आई बाढ़ के कारण खड़ी फसलें खराब हो गई तथा एक पुल और सड़कें टूट गई है। जिला आपदा प्रबंधन प्राधिकरण (डीडीएमए) के मुख्य कार्यकारी अधिकारी सोनम चोसजोर ने आज यहां बताया कि इन क्षेत्रों में अब तक बाढ़ से किसी के हताहत होने की कोई सूचना नहीं है। 

चोसजोर बताया, लेह के तहसीलदार की रिपोर्ट के अनुसार, शनिवार को रूंबक गांव के पास एक कृत्रिम झील फटने के बाद नदी अवरुद्ध होने से इस क्षेत्र में एक कृत्रिम झील बन गई है। अधिकारियों ने बताया कि रविवार सुबह कृत्रिम झील फटने से आई बाढ़ से कई गांवों में खड़ी फसलों को नुकसान पहुंचा है और रूबक पुल क्षतिग्रस्त हो गया है। उन्होंने कहा, रुंबक, युरुत्से और रुमचुंग की ओर जाने वाली सडक़ का मुख्य सडक़ से संपर्क कट गया है। 

उन्होंने कहा कि बचाव दल मौके पर पहुंचकर स्थिति का जायजा ले रहे हैं। चोसजोर ने रविवार शाम को सिंधु नदी में बाढ़ को लेकर अलर्ट जारी कर एनएचपीसी के मुख्य अभियंता को निमो बासगो परियोजना, लिकर और खलत्सी के उप-मंडल मजिस्ट्रेट, तहसीलदार, लेह, कार्यकारी अभियंता, आरएंडबी, लेह और खलत्सी तथा लद्दाख आपदा प्रतिक्रिया बल सहित वरिष्ठ अधिकारियों को सतर्क रहने के लिए कहा गया है। उन्होंने कहा, निमू के नीचे रहने वाले लोगों को भी सतर्क किया गया है।