जिले के मैहर में मां शारदा देवी मंदिर के त्रिकूट पर्वत पर (Trikoot mountain of Maa Sharda Devi temple) आज दोपहर दो बजे सौ से अधिक श्रद्धालु हवा में लटके रहे और उनकी सांसें ऊपर नीचे होती रहीं. दरअसल मां शारदा के दर्शन के लिए त्रिकूट पर्वत पर लगाए गए रोपवे में (Technical problem in the ropeway installed on the Trikoot mountain)  तकनीकी समस्या आ गई और रोपवे चलते-चलते रुक गया.

जिस समय रोपवे रुका उस समय 30 से 32 ट्राली हवा में झूल रही थीं. प्रत्येक ट्राली में चार यात्री सवार थे. इस दौरान लगभग 120 यात्री हवा में ही लटके रहे. लगभग 45 मिनट तक हवा में झूल रही ट्रालियों में सवार यात्री और बच्चे सहित कतार में लगे श्रद्धालु प्यास के कारण तड़पने लगे. जैसे ही यह जानकारी प्रशासन को लगी तो आनन-फानन में श्रद्धालुओं को पानी आदि पहुंचाया और रोपवे (ropeway) का सुधार कार्य इंजीनियरों द्वारा शुरू किया गया. 45 मिनट बाद जब दोबारा रोपवे शुरू हुआ तो हवा में फंसे श्रद्धालुओं के जान में जान आई.

 रोपवे में फंसे श्रद्धालुओं को हुई समस्या के कारण मंदिर प्रबंधन समिति की जमकर किरकिरी हो रही है. इसे देखते हुए मैहर एसडीएम धर्मेंद्र मिश्रा (Maihar SDM Dharmendra Mishra) द्वारा दामोदर रोपवे कंपनी के प्रबंधकों से बात कर जो श्रद्धालुओं को समस्या हुई है उन्हें रोपवे टिकट की ( refund the amount of ropeway ticket to the devotees) राशि वापस करने के निर्देश दिए गए हैं. इसके साथ ही एसडीएम ने इस घटना की जांच के निर्देश और इसकी रिपोर्ट प्रस्तुत करने रोपवे प्रबंधन से कहा है. एसडीएम ने यह भी निर्देश दिए हैं कि ऐसी घटना दोबारा ना हो इसके उचित प्रबंध किए जाएं.

ज्ञात हो कि नवरात्र पर्व ( festival of Navratri) के पूर्व दामोदर रोपवे कंपनी द्वारा मैहर में रोपवे संचालन तीन दिनों तक बंद कर मेंटेनेंस का कार्य किया गया था. यह कार्य इसलिए भी किया गया था कि नवरात्र में लाखों की संख्या में श्रद्धालु के पहुंचने पर रोपवे संचालन में बाधा ना आए. नवरात्र तो संपन्न हो गया लेकिन अभी भी मैहर में भीड़ बनी हुई है. अंतिम दौर में चल रहे मैहर मेले में आखिर आज रोपवे में समस्या आ गई जिसके बाद पूर्व में किए गए मेंटेनेंस के कार्यों पर सवाल उठने लगे हैं.