असम से एक चौंकाने वाली घटना सामने आई है। गुवाहाटी के एक अस्पताल के डॉक्टरों ने जिस कॉलेज स्टूडेंट को मृत घोषित किया था वह जिंदा हो गया। कॉलेज स्टूडेंट शिवसागर का रहने वाला है। गुवाहाटी मेडिकल कॉलेज व अस्पताल के डॉक्टरों ने उसे मृत घोषित कर दिया था। युवक की पहचान बोनी बोरगोहेन के रुप में हुई है। उसे बीती रात गुवाहाटी मेडिकल कॉलेज व अस्पताल में भर्ती कराया गया था। जीएमसीएच के डॉक्टरों ने उसे मृत घोषित कर दिया था।
मरा हुआ समझकर उसे मुर्दाघर भेज दिया गया। 12 घंटे तक वह मोर्चरी में पड़ा रहा। जब परिवार के सदस्य वहां पहुंचे और उन्होंने मृतक के शव को दिखाने की मांग की तो वे यह देखकर चौंक गए कि बोनी की धड़कने चल रही थी। वह सांस ले रहा था। उसे तुरंत नेमकेयर अस्पताल में शिफ्ट किया गया। परिवार के सदस्यों ने डॉक्टरों पर लापरवाही का आरोप लगाया है। बोनी बोरगोहेन गारगांव कॉमर्स कॉलेज का छात्र है। उधर गुवाहाटी मेडिकल कॉलेज व अस्पताल में बतौर नर्स काम करने वाली सपना काकोति की मंगलवार शाम 3.30 बजे रहस्यमय परिस्थितियों में मौत हो गई। सूत्रों के मुताबिक वह तिनसुकिया जिले के मार्घेरिता की रहने वाली थी। भांगागढ़ पुलिस थाने के इंचार्ज इंस्पेक्टर बिपिन मेधी ने कहा, घटना शाम 3.30 बजे की है। प्रारंभिक जांच के लिए मैंने अपने लोगों को अस्पताल भेजा।
वह हॉस्टल के रूम नंबर 201 में पंखे से झूलती हुई मिली। अभी तक मौत की वजह का पता नहीं चल पाया है। जीएमसीएच के अधीक्षक डॉक्टर रामेन तालुकदार ने बताया कि नर्स ने अपने कमरे में आत्महत्या की। पुलिस मामले की जांच कर रही है। इस बीच गुवाहाटी में गांधीबस्ती के पास मस्जिद गली में एक लड़की का शव मिलने से सनसनी फैल गई। स्थानीय लोगों ने शव को एक नाले में पड़ा देखा। उन्होंने तुरंत पुलिस को सूचना दी। चांदमारी पुलिस थाने के इंचार्ज बीरेन चंद्र डेका ने बताया कि मृतका की पहचान मैना बर्मन के रूप में हुई है। मैना गुवाहाटी के बामुनीमैदान स्थित रेलवे कॉलेनी की निवासी है। मृतका की उम्र 20 साल के आस पास है। इंस्पेक्टर डेका ने कहा कि जांच के दौरान यह पता चला कि मैना ड्रग एडिक्ट थी।
शायद ड्रग के ओवरडोज के कारण उसकी मौत हुई है। पोस्टमार्टम रिपोर्ट मिलने के बाद ही मौत की असल वजह पता चल पाएगी। डेका ने कहा कि पुलिस को मृतका के शरीर पर किसी तरह की चोट के निशान नहीं मिले हैं। जांच के दौरान यह भी पता चला कि एक साल पहले मृतका की मां की हत्या कर दी गई थी। उसे पुलिस ने संदेह के आधार पर गिरफ्तार किया था क्योंकि उसकी मां की हत्या के पास से पिता गायब है। मैना ने मां की हत्या के बाद कथित रूप से ड्रग्स लेना शुरु किया था। डेका ने बताया कि मैना पिछले एक साल से रेलवे कॉलोनी स्थित अपने घर नहीं गई थी। वह शहर में यहां वहां घूमती रहती थी। डेका ने कहा कि शव पर चोट के निशान नहीं है इसलिए रेप की संभावना नहीं है। पोस्टमार्टम रिपोर्ट मिलने के बाद पुलिस आगे की जांच शुरु करेगी।