उत्तर कोरिया में स्कूल जाने वाले लड़के ने अपने घर पर अश्लील फिल्में देखकर बहुत बड़ी गलती कर दी । वो उस समय ये फिल्में देखता था, जब उसके माता-पिता घर पर नहीं होते थे, लेकिन उत्तर कोरिया की पुलिस ने आईपी एड्रैस को ट्रैक कर लड़के को रंगे हाथों पकड़ लिया। इसकी सजा ना केवल लड़के को बल्कि उसके पूरे परिवार को सुनाई गई। इन सभी को समाज से बेदखल किया गया और सीमा पर स्थित इलाके में ले जाया गया।

लड़के की किस्मत इसलिए अच्छी रही कि उसे फांसी के फंदे पर नहीं लटकाया गया, जिस स्कूल में ये लड़का पढ़ाई करता था, वहां के प्रिंसिपल को भी बख्शा नहीं गया। उत्तर कोरिया के कानून के अनुसार, अगर स्कूल में पढ़ाई करने वाला बच्चा कुछ भी गलत करता है, तो उसकी जिम्मेदारी वहां के प्रिंसिपल की होती है। इस मामले में भी यही कहा गया कि प्रिंसिपल अपनी जिम्मेदारियों को ठीक से निभा नहीं पाया है। उसे सजा देने के लिए लेबर कैंप में भेज दिया गया है।

बता दें कि उत्तर कोरिया दुनिया के उन देशों में शामिल है, जहां कानून सख्ती से लागू किया जाता है। यहां किसी एक शख्स की गलती की सजा ना केवल उसे और उसके परिवार को बल्कि उससे जुड़े अन्य लोगों को भी भुगतनी पड़ती है। इस देश में कोरोना वायरस के मामलों पर लगाम लगाने के लिए एक साल का लॉकडाउन तक लगाया गया था और सीमाओं को बंद किया गया। हालांकि अभी तक उत्तर कोरिया ने दुनिया के सामने एक बार भी कोरोना वायरस के आंकड़े जारी नहीं किए हैं।