दुनियाभर के नौकरीपेशा लोग अपनी जॉब के लिए कड़ी मेहनत करते हैं जिससें कि उनका प्रदर्शन कंपनी के मानकों पर खरा उतर सके। लेकिन कई बार ऐसी घटनांए भी सामने आती हैं जब अपने व्यवहार के चलते लोग अपनी नौकरी खो देते हैं। ऐसा ही एक वाकया ऑस्ट्रेलिया से सामने आया है। यहां एक महिला को अपनी नौकरी गंवानी पड़ी क्योंकि उसने अपने बॉस को अपशब्द बोल दिए थे। लेकिन इसके बाद महिला ने ऐसा कदम उठाया कि स्थानीय ट्रिब्यूनल ने उल्टा कंपनी के खिलाफ आदेश दिया कि महिला को मुआवजा दिया जाए।

यह घटना ऑस्ट्रेलिया के एक शहर की है। यहां 56 वर्षीय इस महिला ने सबके सामने बॉस को अपशब्द कह दिए। बॉस ने जब इसे सुना तो उन्होंने मैनेजमेंट के साथ मिलकर कदम उठाया और महिला को नौकरी से निकाल दिया गया। जब महिला ने इसके बारे में सुना तो वह गुस्से से लाल पीली हो गई सबक सिखाने की ठान ली और वह स्थानीय कोर्ट में पहुंच गई।

महिला जब स्थानीय कोर्ट में पहुंची तो कंपनी की तरफ से भी कोर्ट में सारे साक्ष्य प्रस्तुत किए गए। यह पाया गया कि वास्तव में महिला ने बॉस को अपशब्द कहे हैं।  इतना ही नहीं इसके अलावा महिला अपने साथ काम कर रहे कर्मचारियों के साथ गलत तरीके से पेश आती थी। कई बार तो वह अन्य सीनियर कर्मचारियों के कपड़ों और उनके शरीर पर कमेंट किया करती थी। यह सारी चीजें कोर्ट में कंपनी की तरफ से प्रस्तुत की गईं।

हालांकि, कोर्ट में महिला ने भी अपना तर्क दिया और पूरे दस्तावेज जमा किए। कोर्ट ने महिला की सभी करतूतों को मानते हुए कंपनी से कहा कि एक गलती आपने भी कर दी है। महिला को बिना किसी नोटिस दिए बिना कंपनी से निकाल दिया जाना उसके लिए एक व्यक्तिगत, पेशेवर और वित्तीय आपदा थी। उसके खिलाफ आरोपों के बावजूद भी वह अभी भी इतने मुआवजे की हकदार थी कि उतने दिन वह अपने लिए दूसरी नौकरी ढूंढ सके।

इस महिला को बिना किसी नोटिस के बर्खास्त कर दिया गया था और यही चीज कंपनी को भारी पड़ गई। कोर्ट ने अपने आदेश में कहा कि महिला को छह हजार डॉलर का मुआवजा दिया जाए जो उसके चार सप्ताह के वेतन पर आधारित है। अब महिला को दूसरी जगह काम खोजने के लिए कहा गया है।