कोकराझाड़  । बोडोलैंड विश्वविद्यालय में असमिया माध्यम को हटाए जाने को लेकर राज्य के विभिन्न जगहों पर हो रहे प्रतिवाद के बीच आज बोडोलैंड विश्वविद्यालय के कुलपति हेमंत कुमार बरुवा ने कहा कि असमिया माध्यम को हटाया नहीं गया है। छात्र-छात्राएं असमिया माध्यम में परीक्षा दें सकते हैं ।

बोडोलैंड विश्वविद्यालय के कुलपति हेमंत कुमार बरुवा के कार्यालय में आयोजित एक संवाददाता सम्मेलन में उन्होंने स्पष्ट रूप से कहा  कि असल में बोडोलैंड विश्वविद्यालय से असमिया माध्यम को हटाया ही नहीं गया था । छात्र-छात्राएं असमिया भाषा में परीक्षा दे सकते हैं । आँनर्स की परीक्षा अग्रेजी और असमिया भाषा में दें सकेगे ।

उन्होंने कहा कि मातृभाषा जैसे बोडो, असमिया, बंगाली, हिंदी आदि विषयों में तो अंग्रेजी का प्रश्च ही नहीं उठता है । इसके अलावा पास कोर्स में विद्यार्थी असमिया भाषा में उत्तर लिख सकते हैं । उन्होंने कहा कि गत 18 सितंबर को विश्वविद्यालय के कार्यकारिणी काउंसिल की बैठक में निर्णय लिया गया था कि स्नातक के आनर्स  विषय में छात्र असमिया और अग्रेजी में उत्तर दे सकते हैं। इसको लेकर एक सूचना भी जारी की गई है।