कोरोना वायरस के बढ़ते मामलों के चलते केंद्र सरकार ने सबसे पहले सीबीएसई और आईसीएसई बोर्ड की 10वीं और 12वीं बोर्ड परीक्षा रद्द करने की घोषणा की थी। इसके बाद जहां परीक्षाएं बची थीं, उन राज्य सरकारों ने भी बोर्ड परिक्षाओं को रद्द कर दिया है। सीबीएसई समेत अन्य राज्यों ने छात्रों को नंबर देने के फॉमूले भी बता दिए हैं। कई राज्यों ने भी मूल्यांकन का फॉर्मूला तय कर लिया है। जानिए जुलाई में किन किन राज्य बोर्डों के रिजल्ट आएंगे।
सीबीएसई 10वीं का रिजल्ट 20 जुलाई 2021 तक और 12वीं बोर्ड का रिजल्ट 31 जुलाई 2021 तक जारी कर सकता है। वहीं अन्य राज्य बोर्ड भी जुलाई के तीसरे सप्ताह तक रिजल्ट जारी करने की तैयारी कर रहे हैं। सीबीएसई दसवीं का रिजल्ट की तैयारी करीब करीब पूरी हो रही है। स्कूलों में बनी रिजल्ट कमेटी छात्रों के अन्य परीक्षाओं के प्रदर्शन के आधार पर रिजल्ट तैयार कर रही हैं। वहीं बारहवीं का रिजल्ट 30:30:40 के फार्मूले पर तैयार हो रहा है। जिसमें दसवीं और 11वीं के रिजल्ट पर 30-30 प्रतिशत वेटेज वहीं 12वीं के प्री बोर्ड व अन्य इंटरनल एग्जाम पर 40 प्रत‍िशत वेटेज दिया जाएगा।
उत्‍तर प्रदेश माध्‍यमिक शिक्षा परिषद (UPMSP) जल्‍द ही 10वीं, 12वीं की बोर्ड परीक्षा के रिजल्‍ट जारी करने जा रहा है। राज्‍य शिक्षामंत्री दिनेश शर्मा ने जानकारी दी है कि बोर्ड परीक्षा के रिजल्‍ट जुलाई के दूसरे सप्‍ताह तक जारी किए जाएंगे। यह भी जानकारी दी गई है कि 10वीं और 12वीं के रिजल्‍ट एक साथ जारी किए जा सकते हैं। शिक्षाविभाग ने रिजल्‍ट जारी होने की डेट की घोषणा नहीं की है मगर रिजल्‍ट अगले 2 सप्‍ताह में जारी किए जाने हैं। छात्र अपने रोल नंबर की मदद से रिजल्‍ट पोर्टल पर लॉगिन कर सकेंगे और अपनी मार्कशीट चेक कर सकेंगे। रिजल्‍ट बोर्ड की आधिकारिक वेबसाइट upmsp.edu.in समेत अन्‍य रिजल्‍ट होस्टिंग वेबसाइट जैसे indiaresults.com पर जारी किया जाएगा।
हिमाचल प्रदेश सरकार ने कक्षा 12वीं के बोर्ड रिजल्‍ट के लिए अपनी मार्किंग स्‍कीम पर मुहर लगा दी है। इसके साथ ही स्‍टेट बोर्ड ने घोषणा की है कि कक्षा 12 के छात्रों के रिजल्‍ट जुलाई के तीसरे सप्ताह तक घोषित किए जाएंगे। 12वीं का रिजल्‍ट 10वीं, 11वीं और 12वीं कक्षा के नंबरों के आधार पर तैयार किया जाएगा तय मार्किंग स्‍कीम के अनुसार, 12वीं का रिजल्‍ट बनाने के लिए 10वीं के नंबरों को 10 फीसदी, 11वीं के नंबरों को 15 फीसदी, 12वीं के फर्स्‍ट टर्म एग्‍जाम के 55 फीसदी, इंग्लिश रिजल्‍ट के 5 फीसदी तथा इंटरनल असेसमेंट के 15 फीसदी नंबर जोड़े जाएंगे। CBSE और CISCE ने Covid-19 महामारी के कारण बोर्ड परीक्षाओं को रद्द कर दिया है और कक्षा 12 के बोर्ड के रिजल्‍ट तैयार करने के लिए मार्किंग स्‍कीम तय कर ली है।

राजस्थान सरकार की ओर से 23 जून को जारी एक सूचना में कहा गया है कि 10वीं और 12वीं का परीक्षा परिणाम 45 दिनों के अंदर जारी किया जाएगा। मतलब जुलाई के अंत तक सीबीएसई और यूपी बोर्ड की तर्ज पर राजस्थान बोर्ड का रिजल्ट भी जारी किया जा सकता है। अगर रिजल्ट तैयार करने में ज्यादा देरी होती है तो यहां की बोर्ड परीक्षा का परिणाम अगस्त के पहले सप्ताह में जारी हो सकता है।

हरियाणा बोर्ड की बात करें तो यहां के राज्य बोर्ड ने 10वीं का रिजल्ट पहले ही जारी कर दिया है। अब सरकार 12वीं के रिजल्ट को जल्दी से जल्दी रिलीज करने की तैयारी जोर-शोर से चल रही है। शिक्षा बोर्ड ने सभी स्कूलों को 12वीं बोर्ड का रिजल्ट 6 जुलाई तक ऑफिशियल वेबसाइट पर अपलोड करने को कहा है। ऑफिशियल वेबसाइट का पता bseh.org.in है। इसके बाद 12वीं का रिजल्ट जुलाई के आखिर तक जारी कर दिया जाएगा।

तेलंगाना बोर्ड इंटरमीडिएट परीक्षा का रिजल्‍ट जल्‍द जारी किया जाना है। जो छात्र इस वर्ष की इंटरमीडिएट परीक्षा के लिए रजिस्‍टर्ड हैं, वे बोर्ड की आधिकारिक वेबसाइट tsbie.cgg.gov.in पर विजिट कर अपना रिजल्‍ट चेक कर सकेंगे। रिजल्‍ट चेक करने का लिंक आधिकारिक वेबसाइट manabadi.co.in पर भी उपलब्‍ध रहेगा। कक्षा 12 के लिए रिजल्‍ट की गणना फर्स्‍ट ईयर के रिजल्‍ट के आधार पर की जा रही है। यदि छात्र उन्हें दिए गए नंबरों से खुश नहीं हैं, तो वे बाद में परीक्षा लिखने का विकल्प चुन सकते हैं। COVID-19 की स्थिति में सुधार होने के बाद तेलंगाना बोर्ड या TSBIE परीक्षा आयोजित करेगा।
तमिलनाडु के मुख्‍यमंत्री M K स्टालिन ने इस वर्ष की बोर्ड परीक्षाओं के लिए इवैल्युएशन क्राइटेरिया की घोषणा कर दी है। कोरोना के खतरे को देखते हुए इस वर्ष 10वीं, 12वीं के बोर्ड एग्‍जाम रद्द कर दिए गए हैं और छात्रों को बगैर परीक्षा के प्रमोट करने का फैसला किया गया है। CBSE, यूपी और महाराष्‍ट्र बोर्ड समेत अधिकांश बोर्ड अपनी मार्किंग स्‍कीम जारी कर चुके हैं। तमिलनाडु बोर्ड ने भी अब घोषणा कर दी है कि बोर्ड रिजल्‍ट कैसे तैयार किए जाएंगे। इंटरमीडिएट बोर्ड का रिजल्‍ट तैयार करने के लिए कक्षा 10 की बोर्ड परीक्षा के नंबरों का 50 फीसदी, कक्षा 11 की बोर्ड परीक्षाओं का 20 फीसदी और कक्षा 12 के प्रैक्टिकल और इंटरनल के नंबरों को 30 फीसदी वेटेज दिया जाएगा। बोर्ड ने 10वीं के नंबरों को सबसे ज्‍यादा वेटेज देने का निर्णय किया है जबकि 11वीं के नंबरों का वेटेज सबसे कम रहेगा।

मध्य प्रदेश में हायर सेकंडरी परीक्षा इवैल्यूएशन पॉलिसी पर आज यानी सोमवार को अंतिम निर्णय होने की उम्मीद है। मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने मंत्री समूह (रिजल्ट का फार्मूला तय करने गठित) की बैठक बुलाई है। जिसमें मध्य प्रदेश माध्यमिक शिक्षा मंडल और स्कूल शिक्षा विभाग के अधिकारी हाईस्कूल परीक्षा 2019 के आधार पर 12वीं का परिणाम तैयार करने का प्रस्ताव रखेंगे। प्रदेश में 12वीं के 7.50 लाख विद्यार्थी हैं, जल्द से जल्द इनके रिजल्ट भी जारी किए जाने हैं।