मुंबई म्युनिसिपल कॉर्पोरेशन (ने 2 मार्च से प्री-प्राइमरी से क्लास 12वीं तक के सभी शैक्षणिक संस्थओं को खोलने की अनुमति दे दी है. मार्च 2020 लगे लॉकडाउन के बाद ऐसा पहली बार होगा, BMC ने सभी स्कूलों को पूरी तरह से खोलने की अनुमति दी है. वहीं सहरुग्णताएं और पुरानी बीमारी वाले छात्रों को स्कूल और कॉलेज में शारीरिक उपस्थिति के लिए, माता-पिता की सहमति पत्र देना होगा.

यह भी पढ़े : कुंडली में ये खतरनाक दोष हो सकता है विवाह में देरी, प्रमोशन में बाधा के लिए उत्तरदायी, ऐसे करें निवारण


महराष्ट्र सरकार में कैबिनेट मंत्री आदित्य ठाकरे ने शुक्रवार को स्टेट ऑफिसर और सिविक्स ऑफिसर से मीटिंग के बाद शैक्षणिक संस्थानों को पूरी तरह से ऑफलाइन मोड में खोलने का फैसला लिया गया. हालिया दिनों में सभी स्कूल हाइब्रिड मोड में काम कर रहे हैं. पूरे महाराष्ट्र में स्कूल और कॉलेज सौ फ़ीसदी ऑफलाइन मोड में खोलने के लिए प्रशासन से अनुमति मिलने की प्रतीक्षा है.

महाराष्ट्र सरकार में कैबिनेट मंत्री आदित्य ठाकरे ने सोशल मीडिया पर बताया कि, "मुंबई में स्कूल मार्च से प्री-कोविड समय के साथ, पूरी उपस्थिति, पाठ्येतर गतिविधि, स्कूल बसों के अलावा कोविड उपयुक्त मानदंडों के साथ फिर से शुरू हो सकते हैं, क्योंकि मुमाबी में लगातार संक्रमण के मामलों में गिरावट दर्ज की जा रही है.

मुंबई में स्कूल कॉलेज के लिए जारी एसओपी में, स्कूल और कॉलेज में खेल गतिविधियों और एक्स्ट्रा करीकुलर एक्टिविटी को फिर से शूरु करने की अनुमति दी है, इन एक्टिविटी को करने के दौरान मास्क की पहनने की जरुरत नहीं हैं. हालांकि छात्रों को क्लासरूम में मास्क पहन जरुरी होगा. स्कूलों में लगातार थर्मल स्क्रीनिंग करनी होगी.

स्कूल और कॉलेज में विकलांग और स्पेशल छात्रों को भी क्लास में सौ फ़ीसदी की उपस्थिति की इजाजत दी गई है. स्कूल के बच्चे को शहर की बेस्ट के बसों में आने-जाने के लिए यात्रा कर सकते हैं.

यह भी पढ़े : यूपी चुनाव: प्रियंका गाँधी वाड्रा तोड़ा योगी-मोदी का तिलिस्म, जानिए किसने दिया ये बयान

मीडिया में छपी खबरों के मुताबिक, संक्रमण के घटते मामलों को देखते हुए, राज्य, जिला और सिविक्स ऑफिसर की मीटिंग के बाद पूरे राज्य में स्कूल, कॉलेज को पूरी तरह से ऑफलाइन मोड में खोलने इजाजत दे दी जायेगी.

कैबिनेट मंत्री आदित्य ठाकरे ने ट्वीट के जरिये बताया कि, स्कूलों में वैक्सीन कैंप का आयोजन किया जाएगा और 15 साल से अधिक उम्र के बच्चों को वैक्सीन के लिए प्रोत्साहित किया जायेगा.