कराची यूनिवर्सिटी में चीनी अध्यापकों की वैन में विस्फोट के एक दिन बाद चीन ने बुधवार को कहा कि उसके नागरिकों का खून व्यर्थ नहीं जाएगा और विस्फोट के पीछे जिसका भी हाथ है, उसे खामियाजा भुगतना होगा। 

ये भी पढ़ेंः Jio से भी बेहद कम कीमत वाले हैं ये रिचार्ज प्लान! हर माह होगा 3000 का फायदा


कराची यूनिवर्सिटी में मंगलवार को कनफ्यूशियस इंस्टिट्यूट की एक यात्री वैन में विस्फोट से तीन चीनी अध्यापकों सहित कई लोगों की मृत्यु हो गयी और एक चीनी अध्यापक घायल हो गये। विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता ने कहा कि चीन ने हमले की कड़ी निंदा करते हुए इस पर गहरा आक्रोश व्यक्त किया है। साथ ही पीड़ितों के प्रति गहरी संवेदना और घायलों तथा शोक संतप्त परिवारों के प्रति सहानुभूति व्यक्त की है। 

ये भी पढ़ेंः केंद्रीय कर्मचारियों के लिए खुशखबरी! इस महीने इतनी बढ़कर आएगी सैलरी


उन्होंने बताया कि चीनी सहायक विदेश मंत्री वू जियानघाओ ने ‘बेहद गंभीर चिंता व्यक्त करने के लिए’ चीन में पाकिस्तानी राजदूत को तत्काल फोन किया है। उन्होंने मांग की कि पाकिस्तान तुरंत घटना की गहन जांच करे, अपराधियों को गिरफ्तार करे और समुचित दंड दे। उन्होंने कहा कि पाकिस्तान में चीनी नागरिकों की सुरक्षा सुनिश्चित करने के लिए देश हर संभव उपाय करे और इस तरह की घटनाओं की पुनरावृत्ति रोके। इस हमले के बाद पाकिस्तानी प्रधानमंत्री शहबाज शरीफ ने अपनी संवेदना व्यक्त करने के लिए चीनी दूतावास का दौरा किया और कहा कि पाकिस्तानी सरकार घटना की गहन जांच कर अपराधियों को अनुकरणीय सजा देगी तथा पाकिस्तान में चीनी कर्मियों, परियोजनाओं और संस्थानों की सुरक्षा को मजबूत करेगी।