तिरुवनंतपुरम। केरल (Kerala) में भारतीय जनता पार्टी(BJP) कार्यकर्ताओं के एक समूह ने कुंबाला पंचायत चुनाव (kumbala panchayat election) में माकपा (CPI(M)) के साथ गठबंधन को लेकर विवाद के बाद पार्टी के कासरगोड जिला समिति कार्यालय को बंद कर दिया है।

पार्टी नेता और कार्यकर्ता जुलूस के तौर पर कार्यालय की ओर गए और जंजीरों तथा ताले से इसे बंद कर दिया। पार्टी के स्थानीय नेताओं और कार्यकर्ताओं ने पार्टी के प्रदेश अध्यक्ष के. सुरेंद्रन के कार्यक्रम स्थल पर आकर मामले को सुलझाने की मांग की थी। गौरतलब है कि कासरगोड में भगवा पार्टी बहुत मजबूत है और मंजेश्वर तथा कासरगोड विधानसभा क्षेत्रों में भाजपा उम्मीदवार हमेशा चुनाव परिणामों में दूसरे स्थान पर रहे हैं।

अरुणाचल को पूर्वी एशिया का प्रमुख प्रवेश द्वार बनाने के लिए पूरी ताकत लगा रहे PM Modi

के सुरेंद्रन मंजेश्वर सीट से चुनाव लड़ते रहे हैं और 2016 के विधानसभा चुनाव में वह इंडियन यूनियन मुस्लिम लीग के पी.बी.अब्दुल रजाक से 89 मतों से हार गए थे। हालांकि, वह 2021 के विधानसभा चुनावों में मुस्लिम लीग के ए.के.एम. अशरफ से 745 मतों से हार गए थे। कासरगोड में शुरू हुए विवाद ने राज्य भाजपा नेतृत्व को झकझोर कर रख दिया है क्योंकि यह पार्टी का गढ़ है जहां पार्टी हमेशा से एक ताकत रही है।

भाजपा के स्थानीय नेता एम. प्रवीण ने आईएएनएस से बात करते हुए कहा, 'हम केरल में सीपीआई-एम के साथ लड़ रहे हैं और कुंबाला में उस पार्टी के साथ गठबंधन पूरी तरह से अनावश्यक है। जब तक राज्य भाजपा अध्यक्ष इस मामले में हस्तक्षेप नहीं करते और मामले का निपटारा नहीं करते ,हम अपना विरोध जारी रखेंगे।'

यहां बांस में पकाई जाती है मछली, खाने में मिलेगा सबसे अलग और यूनिक टेस्ट, ये है तरीका

हालांकि,भाजपा प्रदेश अध्यक्ष के. सुरेंद्रन कन्नूर से लौटे गए हैं लेकिन जैसा कि उम्मीद की जा रही थी, वह कासरगोड नहीं पहुंचे हैं।

इस मामले में सुरेंद्रन ने कहा,'मुझे इस मुद्दे पर पूरी जानकारी हासिल करनी है और स्थानीय नेतृत्व से बात करनी है। जब तक मुझे इस पर उचित जानकारी नहीं मिलती, मैं तब तक इस पर कोई टिप्पणी नहीं कर सकता।'